Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

रिपुदमन झा "पिनाकी"

Classics Inspirational

4  

रिपुदमन झा "पिनाकी"

Classics Inspirational

जन्मे कृष्ण कन्हाई

जन्मे कृष्ण कन्हाई

1 min
36


गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई

नंद भवन आनंद उत्सव है, देते लोग बधाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


श्याम सलोने सूरत प्यारी-२

मंद हंसी मारे किलकारी-२

चहक उठी सारी अंगनाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


मोर मुकुट पीताम्बर सोहे-२

देख मनोहर छब मन मोहे-२

पग में पैंजनी कड़ा कलाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


माथे पर चंदन का टीका-२

जिसके आगे चांद भी फीका -२

काजल आंखों में है लगाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


मैया यशोदा पलना झुलाए-२

बली बली जाए नेह लुटाए-२

टुक-टुक देखे पलक झपकाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


नंद बाबा आशीष लुटाएं-२

लाड़ लगाएं और मुस्काएं-२

देख यशोदा भी मुसकाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


जन्मोत्सव सब लोग मनाए-२

ढोल बजाए मंगल गाए-२

झूमे नाचे सब लोग लुगाई

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


नर नारी सब झूम रहे हैं-२

कान्हा का मुख चूम रहे हैं-२

ढोल मृदंग बजे शहनाई।

गोकुल में जन्मे कृष्ण कन्हाई...


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics