Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Nand Kumar

Inspirational


4  

Nand Kumar

Inspirational


इम्तिहान

इम्तिहान

1 min 175 1 min 175

जिंदगी सदा से ही , 

सबका इम्तिहान लेती है ।

कभी खुशी तो कभी, 

गम का उपहार देती है ।।


गर्भ में नौ मास रहना, 

और रखना है कठिन ।

बीत जाता समय पर, 

गिनते हुए है मास दिन ।।


फसल बोकर कर प्रतीक्षा, 

खाद दे पानी उन्हें ।

देखता है हर घडी क्या, 

है कमी कोई नही ।।


पालता रक्षा भी करता, 

भूलकर निज दुःख सारे ।

है मचलता देख फल को, 

जो दिया इम्तिहान प्यारे ।।


जिदंगी जीना मगन रहना, 

सभी से मेल करके ।

ज्ञान पा कर्तव्य कर निज, 

वो सफल इम्तिहान देके ।।


हर घडी हर पल सदा, 

इम्तिहान ही देते हैं हम ।

कोई पाता अधिक मिलता , 

है किसी को और कम ।


किन्तु जीवन मे कभी , 

होना नही विचलित सही ।

सफल हो इम्तिहान देकर, 

सफल है वह मनुज ही ।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Nand Kumar

Similar hindi poem from Inspirational