Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

EK SHAYAR KA KHAWAAB

Abstract Fantasy Inspirational

4  

EK SHAYAR KA KHAWAAB

Abstract Fantasy Inspirational

गली गली

गली गली

1 min
321


मौत मिलती ना ढूँढने से।

पैमाने की खनक मिलती गली-गली।


तारे ना चमकते भोर से।

आर्टिफिशयल प्रकाश मिलता गली-गली।


उम्मीद मिलती ना ख्वावों से।

मेहनत की परकाष्ठा फैली गली-गली।


साई जी ढूँढे ना मिले पत्थरों से।

मिटटी की मुरतो की पूजा होती गली-गली।


देशभक्ति ना मिले दुकानो से।

धर्म की दीवार चढ़ी गली-गली।


माँ-बाप को पूछे ना हाल-चाल घर से।

समाज सेवी संस्था खोल बेठे बेटा-बेटी गली-गली।


हमारा देश,हमारा देश कहे हर कोई घर से।

टैक्स की चोरी होती यहाँ गली-गली।


खोखला हो गया है कैसा मेरा देश अन्दर से।

जिसकी अनेकता मे एकता के किस्से गूँजते थे कभी गली-गली


कोई क्या उम्मीद लगाए अदना कबि भगत से।

जो खुद भीख मांगता हरफो की सरस्वती माँ से गली-गली।


Rate this content
Log in