Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Dhan Pati Singh Kushwaha

Abstract Action Inspirational


4  

Dhan Pati Singh Kushwaha

Abstract Action Inspirational


देव बच्चों को बचाते

देव बच्चों को बचाते

1 min 325 1 min 325

ज्यादा खतरनाक बच्चों के लिए है,

सुना होगी कोविड की अगली लहर।

सुखद खबर है पर सावधान रहें हम,

प्रतिरक्षण तंत्र बच्चों का होता बेहतर।

अधिक निकट बच्चे होते हैं ईश्वर के ,

विलियम वर्ड्सवर्थ यह गए हैं कहकर।

सरल-पवित्र हृदयी होने के कारण ही,

देव बच्चों को बचाते सहायक बनकर।


गर्भकाल में शिशु के लिए मां का रूप ,

शुभ वरदान प्रभु का ही तो होता है।

सारी बाधाओं और चिन्ताओं से रहित,

जीवन का शुरुआती समय यह होता है।

धरा पर पग रखते ही प्रकृति दुग्ध देकर,

पालन-पोषण का भी प्रबन्ध देती है कर।

सरल-पवित्र हृदयी होने के कारण ही,

देव बच्चों को बचाते सहायक बनकर।


मां के पहला गाढ़ा-पीला दूध कोलोस्ट्रम ,

शिशु के हित पीयूष सदृश ही होता है।

जीवाणु-विषाणु से रक्षण के गुणों से युक्त,

शिशु के लिए यह वरदान प्रभु का होता है।

स्तनपान लाभप्रद होता मां और शिशु को,

शक्तिशाली शिशु बनता है इसको पीकर।

सरल-पवित्र हृदयी होने के कारण ही,

देव बच्चों को बचाते सहायक बनकर।


कई बार सुना और देखा भी है गया ,

दुर्घटना में बस जीवित बच्चा ही एक बचा।

भीषण शीत में शिशु खेलते हैं नंगे पांव,

जब कांपते हैं कम्बल भी ओढ़े हुए चचा।

जब रूह कांपती समझदारों की खतरे से,

खिलखिलाए शिशु परियों संग खुश होकर।

सरल-पवित्र हृदयी होने के कारण ही,

देव बच्चों को बचाते सहायक बनकर।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dhan Pati Singh Kushwaha

Similar hindi poem from Abstract