Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

mohammad imran

Drama


3  

mohammad imran

Drama


बिहार सलाम बिहार मकाम

बिहार सलाम बिहार मकाम

1 min 24 1 min 24

हर बार बिहार में क्यों बाढ़ का अतांक है 

इस बाढ़ से बचा नहीं क्या राजा क्या रंक है 


क्या बांधों का प्रबंधन मजबूत नहीं किया जा सकता

क्या अवाम के जानों माल के खातिर,

ये संकल्प नहीं लिया जा सकता 


क्या लगता है बिहार के सत्ता में कोई झोल है 

या कहीं हम बिहारियों का इसमें कोई रोल है 

डूब गई गैया डूब गई भैसिया डूबा पूरा परिवार है 


मीडिया वाले भी डूबे इस में, क्यों की यह बिहार है 

अब बिहारियों को ही अपना उद्धार करना है 

अपने घाव को खुद इलाज करके भरना है 


जाति धर्म के नाम पर क्यों हम मतदान करें 

चुने उसे ही हम जो बिहार में कुछ काम करे 

वरना बिहारी अब गाली बन कर रह जाएगी 


निवाला कोई लूट लेगा खाली थाली ही रह जाएगी 

हमने ही भारत के हर राज्य को खूबसूरत बनाया है 

बस अपने घर को भूल गए इसका पछतावा आया है


चंद पैसों के खातिर मिलो दूर कस्टो में गुजारा है 

अपना जमीन छोड़ हमने दूसरो का जमीन संवारा है

बस बहुत हो गए बिहार पे आपदा बर्दास्त नहीं 


जिसे राजनीति करना है वो बिहार छोड़ ,जाएं कहीं 

बरगलाने से अब ना दाल किसी गलने देंगे 

काम नहीं किया तो गद्दी हम वापस ले लेंगे।


Rate this content
Log in

More hindi poem from mohammad imran

Similar hindi poem from Drama