Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Virendra Bharti

Tragedy Inspirational Others

4.8  

Virendra Bharti

Tragedy Inspirational Others

बेरोजगारी

बेरोजगारी

1 min
275


सुन ऐ प्यारी बेरोजगारी ,

तेरी तारीफ तो नहीं गंवारी।

तू लगती भी नहीं प्यारी,

फिर भी खानी पड़ रही है तेरी तकारी।।


सुन ऐ प्यारी बेरोजगारी,

खत्म हो नहीं रही तेरी मेरी यारी।

ऊपर से ताने मारे दुनियाँ सारी,

सिर्फ खुद को ही लगे खुद की मेहनत बेचारी।।


सुन ऐ प्यारी बेरोजगारी,

प्रतियोगिता की तैयारी है जारी।

भूल गए इश्क़ वाली गलियाँ सारी,

अब तो खुद के खर्चे की भी चलती है मारा - मारी।।


सुन ऐ प्यारी बेरोजगारी,

दिन ब दिन मेहनत है जारी।

बना ली तेरी कच्ची चिट्ठी सारी,

इस बार तेरी अलविदा की बारी।।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy