Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

SNEHA NALAWADE

Inspirational

4.0  

SNEHA NALAWADE

Inspirational

अध्यापिका...

अध्यापिका...

2 mins
290


मैं खुद को बहुत ही भाग्यवान मानती हूँ की

मुझे ऐसे अध्यापिका मिली जिन्होंने

मेरा जीवन पूरी तरह से बदल दिया 

मैं सुबह कितने बजे उठती हूँ उठकर क्या करती हूँ

हर चीज का ख्याल रखती है 

छात्र कम पर बेटी ज्यादा मानती है

इसलिए माँ होने के नाते हर छोटी से छोटी बात

बहुत सरल भाषा में समझा देती है 

जिसके चलते चीजें समझ आती है 


वैसे देखा जाए तो हर किसी का अपना निजी जीवन होता है

परंतु इसके चलते हर चीज का ख्याल रखना और

उसके मुताबिक चलना बहुत ही अलग बात होती है

बस फर्क इतना ही है की उनकी कोख से जन्मे नहीं

पर वो मेरे लिए मेरी माँ भी है और मेरा पूरा विश्व भी 


मेरी जिंदगी में उन्होंने आकर एक नई दिशा दी

जिसके चलते मुझे इतना तो यकीन हो गया

चाहे कुछ भी हो जाए वो कभी भी मेरा साथ नहीं छोड़ेंगी

और भला छोड़ भी कैसे सकती है आखिर बेटी जो हूँ उनकी 

जिन्होंने वकील के रूप में मेरे सारे नखरे उठाए 

जिन्होंने सहेली बन कर छोटी छोटी बाते समझाई 

जिन्होंने अध्यापिका बन कर पाठ पढ़ाये

जिन्होंने माँ बन कर जीवन की सीख दी... 


मेरे लिए उन्होंने जो कुछ भी किया उसके लिए

मैं धन्यवाद नहीं करूँगी क्योंकि कहते हैं कि

अपनों से क्या शुक्रिया अदा करना !!! 

परंतु मैं भगवान का शुक्रिया अदा करती हूँ की

उनकी वजह से वो मेरी जिंदगी में आई

और मेरा विश्व ही बन गई... 

वैसे उन अध्यापिका का नाम है... 

अर्चना आहेर मैडम


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational