Nandini Upadhyay

Drama


Nandini Upadhyay

Drama


वृद्धाश्रम

वृद्धाश्रम

1 min 562 1 min 562

बंटी चिल्लाते हुए आता है । मम्मा मम्मा कहाँ हो आप ? उसके मम्मी कहती हैं "मैं यहाँ हूँ बेटा किचन में" बंटी वहाँ आता है , और कहता है मम्मा कल मेरा बर्थडे है । हम कैसे मनाएंगे ? माँ कहती है बेटा मैंने और तेरे पापा ने सोचा है कि कल हम वृद्धाश्रम जाएंगे वहाँ जाकर तुम्हारा बर्थडे मनाएंगे । मम्मा मगर हम वहाँ क्यों मनाएंगे मेरा बर्थडे ? हम किसी अच्छे होटल में चलते हैं वहाँ जाकर मनाते हैं , तो माँ कहती है बेटा वहां पर बहुत सारे दादा-दादी है । हम वहां जाकर आप का बर्थडे मनाएंगे ,उनके लिए कुछ गिफ्ट ले जाएंगे, तो वे लोग बहुत खुश हो जाएंगे।

कुछ सोचकर बंटी कहता है " इससे अच्छा तो हम हम गांव चलकर मनाते हैं , वहाँ पर मेरे दादा दादी है , वह बहुत खुश हो जाएंगे । हम बहुत दिनों से उनसे मिले भी नहीं है , तो माँ कहती है ,नहीं - नहीं हम गांव नहीं जाएंगे । हम वृद्धाश्रम ही जाएंगे क्योंकि , पापा के पास अभी समय नहीं है।

अब बंटी को क्या पता कि , माँ ने वृद्धाश्रम में जाकर बर्थडे मनाने का प्लान ही इसलिये बनाया था ताकी वहां के फोटो सोशल साइट पर डाल कर दोस्तों में वाहवाही लूट सके।


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design