Sanjay Aswal

Abstract


4.6  

Sanjay Aswal

Abstract


कोई अपना पीछे छूट गया उसका

कोई अपना पीछे छूट गया उसका

1 min 347 1 min 347

लोग कहते हैं,

वो बेवजह इधर उधर की बात करता है,

वो अक्सर सीने में अपने

 किसी की यादों को छिपा के रखता है।

ये वो ही जाने,

आखिर चलते चलते

वो क्यों ठहर जाता है,

किसी अजनबी को देख,

अक्सर क्यों ठिठक जाता है।

अक्सर ख़ामोश सा दिखता है,

कभी मायूस तो 

कभी रूआंसा सा रहता है,

कभी हँसता है,

कभी रोता है,

नित नए रूप बदलता है।

तकता है 

आसमां को एक टक ऐसे,

जैसे कोई अपना उसका,

बहुत पीछे छूट गया है।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Sanjay Aswal

Similar hindi poem from Abstract