Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
प्रेम का कथ्य
प्रेम का कथ्य
★★★★★

© पवन (pawan) तिवारी (Tiwari)

Drama Romance

1 Minutes   7.0K    9


Content Ranking

शिल्प के मोंह में ही फंसा रह गया

प्रेम का कथ्य तो अनकहा रह गया

वो कहानी में बन नायिका छा गयी

मैं तो पुस्तक में बस प्राक्थन रह गया


प्यार के आवरण का अनावरण हो

दिल के द्वारे तुम्हारा प्रथम चरण हो

जीवन साथी बनाने से पहले तुम्हें

सोचा तुम संग हृदय से समर्पण हो


बिन समर्पण सफल प्यार होता है क्या

बिन विश्वास सम्बन्ध होता है क्या

हो समर्पण तो विश्वास आ जाएगा

प्रेम में मेरा – तेरा भी होता है क्या


तुम जो आई तो उर में सवेरे हुए

खुशियों के सारे पुष्प मेरे हुए

कैसे लोकार्पण मैं करूँ प्रेम का

कुछ रहा ना मेरा सब तो तेरे हुए


पवन तिवारी

poetpawan50@gmail.com

सम्पर्क - 7718080978

Love Life Heart

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..