Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

ये कैसा प्यार-भाग २

ये कैसा प्यार-भाग २

3 mins 7.9K 3 mins 7.9K

"..हाय सोनू ! "

अरे ये तो अपने हीरो को पुकार रही है, कहीं हीरो की हीरोइन तो नही !

इस आवाज को सुनते ही बाकी दोस्तों की नज़र एक साथ उस पर पड़ती है, राज और विजय तो लड़की की तरफ देखने के बाद सोनू की ओर देख रहे हैं मगर संजय फटी आँखों से हक्का बक्का लड़की की तरफ देख रहा है और जाने मन ही मन क्या सोच रहा है ।

"..ह..हाय अंजलि..! " ( बस इतना कहना था सोनू का, और सब सोनू को ऐसे घूरने लगे जैसे पूछ रहे हों इसे जानता है)

"हाय अंजलि..! ...वाह क्या बात है आज बड़ी स्मार्ट लग रही हो..? "

"....रियलीsssss ! .....आई तो आलरेडी स्मार्ट है....यार तु भी न ? "

"..आ बैठ... "

"मेरे पास बैठने का टाइम नही है...और वैसे भी शायद तुम लोग काम में बिजी हो शायद...? "

"...क्यों तेरे पास क्यों नही है टाइम ? ...कोई बायफ्रैंड पटा लिया क्या ?

जो तुम्हें जरा भी टाइम नी दे रहा..हा हा हा "

"..ओफ्फ हो..सोनू यार तू ऐसा मजाक मत किया कर ! बैठना है ना लो बैठ जाती हूँ....ऐसा क्यूँ सताते हो मुझे ? "

"...ओ.के.....सारी यार...वो तेरी लैंग्वेज में बोलूँ यू बुरा मान गयी क्या ? ......हा हा हा....अच्छा ..मेरे फ्रैण्डस से नही मिलोगी ? ... "

( इतना सुनकर संजय के चेहरे पे चमक आ गई तभी अंजलि बोली..)

" हाँ हाँ मिलवाओ ना..... "

"ये राज है...ये विजय...और ये संजय...सभी बी.ए सेकेण्ड ईयर में और माई फ्रैण्डस ! ......ये है मेरी सबसे अच्छी, थोड़ी शैतान, थोड़ी चालाक....माई फ्रैण्ड .....अंजलि... हे हे हे.... "

"हाय फ्रैण्डस हाय ( अंजलि सबसे हाथ मिलाती है) ...सोनू तुम फिर मुझे चिढ़ा रहे हो....यू भी ना... "

"अच्छा बाबा सारी...ओके..अच्छा ये बताओ आज टाइम नही है क्या बात ....कहीं जा रही हो ? "

"..वो यार मेरी एक बेस्ट फ्रैण्ड है न..वो देहरादून से यहाँ पढ़ने आ रही है मेरी क्लास मे एडमिशन होना है उसी का फार्म जमा कर रही थी..वो है एकदम दब्बू..कालेज आने मे डर रही थी..देहरादून की है तब भी...वो तो आण्टी ने मुझे कहा फार्म मैं जमा कर दूँ ....पर इसने तो कुछ गड़बड़ भी कर दिया ...सोनू प्लीज इसे ठीक से भरवा दो.......मुझे समझ नही आ रहा क्या करूँ ? "

" हाँ तो अब समझे ! तभी आई हो मेरे पास...मैं करूँ तुम खुद बैठी रहो हाँ...? "

"..नही यार मुझे जरा मार्केट जाना है..तू भर दे न...देख तो फोटो भी नी लगाई इसने ...कहती है तू जमा कर देना ..एकदम फूल है ये लड़की ! "

"तो कल कर देना जमा...आज फोटो लगा दो.....( नाराज होती अंजलि की ओर देखते हुए) .. अ..अच्छा...मैं ही कर दूँगा ....त..तू नाराज क्यों होती है...? ....ला सब मुझे दे...डाक्यूमेण्ट भी....( फार्म भी ले लेता है) "

थैंक्यू सोनू...! आई लाइक यू..लव यू..थैंक्यू वेरी मच..( डाक्यूमेण्ट दे देती है) .. तो अब मैं चलूँ मुझे देर हो रही है...बाय..बाय फ्रैण्डस.... "

"...बाय .....कल मिलना...... "

"....ब...बाय....( अंजलि को देखते हुए संजय बोल पाता है) "

( फिर सोनू की ओर देखकर बोलता है....अंजलि चली गई है)

"..यार सोनू....कमाल है कितनी क्यूट गर्लफ्रैण्ड है तेरी..और तूने कभी बताया नी...देखा राज....इसने हमसे छुपाया... "

...............(क्रमश:)


Rate this content
Log in

More hindi story from Vikram Singh Negi 'Kamal'

Similar hindi story from Drama