Akshat Garhwal

Crime Thriller

5  

Akshat Garhwal

Crime Thriller

The 13th अध्याय-33

The 13th अध्याय-33

15 mins
713


 “बूमsssssss..... फर्रsssssss... बूमssssss........” उन रोबोट्स के पास मिनीं मिसाइल्स तो थी ही साथ ही उनके पीछे गाड़ियों में बैठे हुए सैनिकों के पास भी रॉकेट लांचर और ग्रेनेड(Grenade) थे जो वे ब्रूकलिन ब्रिज के दूसरी तरफ फेंक रहे थे जहाँ पर सी आई ए के एजेंट्स उन रेड ऑक्टोपस के बद्ददिमाग सैनिकों के साथ गन-वॉर में जुटे हुए थे। 

“(कुछ हाल बताओ इथन?! आखिर तुम कर क्या रहे हो?)” एलेनोरा ने ई एम ग्लोव के जरिए इथन से बात करने की कोशिश की “(यहाँ पर रोबोट्स और रेड ऑक्टोपस के सैनिकों ने हमला कर दिया है....हम रोबोट्स को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा सकते)”

“(अरे यार यहां पर कारलोस का ग्रुप हमारी मदद करने आया था और वो खुद ही यहाँ पर फंस गया)” उधर से इथन का जवाब आया “(पता नहीं कहाँ से इन रेड ऑक्टोपस वालों हमला कर दिया....वो लोग बहुत सारे है। फिलहाल यहाँ से निपटना ज्यादा जरूरी है तभी मैं तुम्हारी मदद कर पाऊंगा....)” इथन की उस एडवांस राइफल की चलने की आवाज ट्रांसमीटर के जरिये एलेनोरा ने भी सुनी जिसके बाद कॉल डिसकनेक्ट हो गया...........

“डेम इट” एलेनोरा ने गुस्से में झुंझलाते हुए अपना हाथ सीमेंट के बने हुए बैरिकेड में मारा...

अभी-अभी एलेनोरा के सामने ही रेड ऑक्टोपस के उन रोबोट्स ने ब्रूकलिन ब्रिज बीच में से उड़ा दिया था जिस के कारण सी आई ए की वो यूनिट जो एलेनोरा संभाल रही थी उसे पीछे हटना पड़ा था। एलेनोरा जानती थी कि ब्रिज को बीच में से उड़ा कर से सिर्फ रेड ऑक्टोपस ने सीधी झड़प से बचाव किया है बल्कि उसका इरादा सी आई ए को पीछे धकेल कर एक ही जगह पर फँसाय रखना था ताकि वो कारलोस के ग्रुप की मदद के लिए ना जा पाए। 

गोलियां अभी भी दोनों तरफ से चल रहीं थी पर रेड ऑक्टोपस के रोबोट्स आगे बढ़े ही जा रहे थे......

“मैम! इस तरह तो हम यहीं पर फंसे रह जाएंगे और हमारे यहाँ पर फंसते ही कहीं वो किसी बड़ी मिसाइल्स से हमला न कर दे?” एलेनोरा की यूनिट मैं काम कर रहे एक एजेंट ने कहा जो इस वक्त अपनी AWM स्नाइपर राइफल में बुलेट रीलोड कर रहा था

एलेनोरा को जल्दी ही कोई उपाय सुझाना था, जितनी ज्यादा देर फैसलों में होगी उतनी ही जल्दी परेशानियां बढ़ने लगेंगी। 

“हैवी मशीन गन वाले 20 एजेंट्स, इसी वक्त मेरे साथ आगे बढ़ेंगे और उन खराब गाड़ियों के पीछे छिप जाएंगे........हमे पास जाकर उन रोबोट्स का वीक पॉइंट(weak point) ढूंढना होगा) एलेनोरा ने पूरे जोश के साथ कहा

“यस मैम!” और एक जोशीला जवाब ही सुनने को मिला। 

एलेनोरा के इशारे पर सभी 20 सैनिक अपनी हेवी मशीन गन्स के साथ झुक कर आगे बढ़ने लगे...ब्रिज जहां से टूटा था वहाँ पर लगातार हमले से इस वक्त काफी धुंआ उठ रहा था जिसके साय में बिना दिखे ही पूरे 20 सैनिक आगे आ गए और धुंए के बीच से अपना निशाना लगा, धुंए के छटने का इंतजार करने लगे। 

“मेरे 3 के काउंट पर!...1........2............3....फायर(Fire)!”

एलेनोरा की तीज आवाज के सुनते ही उन 20 एजेंट्स ने रोबोट्स के अलग-अलग पार्ट्स पर हमला किया “धांय-धांय-धांय-धांयsssssss..........” पर कोई खास सफलता नहीं मिली और रेड ऑक्टोपस के सैनिकों को एलेनोरा और उन 20 एजेंट्स की पोजीशन का पता चल गया। वे एक बार फिर हमला करने को तैयार हुए और यकीन मानों! कोई भी कार मिसाइल्स से बचने के लिए अच्छा कवर नहीं होती। 

“ग्रेनेड फेंको!” उन रोबोट्स की मंशा को भांपते हुए एलेनोरा ने पलटवार किया। 

ग्रेनेड के धमाकों के कारण मिसाइल्स लांच नहीं कि गईं पर फिर भी एलेनोरा जानती थी कि वो अचानक से पीछे नहीं हट पाएंगे...सभी यहीं उम्मीद कर रहे थे कि उन ग्रेनेड ने थोड़ा तो डैमेज किया होगा पर

“स्मोक ग्रेनेड फेंको! अभी!” एलेनोरा ने कोई भी रिस्क नहीं लिया और अपनी टीम को स्मोक ग्रेनेड फ़ेंकने को कहा और धुंए का फायदा उठाते हुए थोड़ा पीछे की ओर आ आ गए। अब जब तक इन रोबोट्स का कोई इंतजाम नहीं करेंगे तब तक तो इस हालत से निकल पाना आसान नहीं होगा......एलेनोरा अभी भी कुछ परेशान थी......जब कारलोस की टीम वापस आयी थी तो सृजल वहाँ नहीं था। एलेनोरा जानती थी कि सृजल को कुछ भी नहीं होगा पर उसे सुरक्षित न पाना एलेनोरा को बहुत परेशान कर रहा था। और ऐसे में किसी भी तरह का सुझाव आना तो आसान था ही नहीं। 

“बूमsssssssss.... धड़ामsssssss........” जिस जगह पर पहले एलेनोरा और उसके साथी थे वो जगह अभी-अभी मिनीं मिसाइल्स से ब्लास्ट की गई थी जिसका ठीक मतलब था कि स्मोक ग्रेनेड का धुंआ छटने लगा था। इस वक्त गोलियां चलाना दुश्मन को अपनी पोजीशन(Position) देना था इसलिए एलेनोरा ने किसी को भी फायरिंग के आदेश नहीं दिए। पुल पहले ही काफी धमाके सह चुका था और कोई भी धमाका ब्रूकलिन ब्रिज को गिरा सकता था। तभी एलेनोरा के ट्रांसमीटर में एक आवाज आई....

“( कारलोस बोल रहा हूँ........)” उसकी आवाज में कुछ थकान थी “(उन रोबोट्स की कमजोरी उनके सर के पीछे का एक बॉक्स जैसा हिस्सा है जिस से वो रोबोट्स कंट्रोल हो रहे, उन रोबोट्स के अंदर कोई भी नहीं है पर उन्हें कंट्रोल करने वाला शायद यहाँ पर नहीं है और कहीं दूर से ही ऑपरेट कर रहा है........हमें यहाँ से निकलने में काफी समय लग जायेगा इसलिए अब सब तुम पर ही है एलेनोरा.......प्लीज डू समथिंग(Please do something)!)”

और इसी के साथ कारलोस की कॉल कट हो गयी...एलेनोरा ने यह सूचना अपने सभी साथियों को बता दी ताकि सभी को एक अंदाज हो जाये कि इस परिस्थिति से कैसे निकलना है पर.......सवाल यह था कि आखिर रोबोट्स के पीछे हम लोग जाएंगे कैसे और हमला कैसे करेंगे?.....दरअसल मास्टर संग ने जो एडवांस वेपन तैयार किये थे उनमें से कुछ में ही पासवर्ड लॉक नहीं था जो कि सृजल, इथन और रोबर्ट के पास थे और वो वेपन उन तीनों के बायोमेट्रिक से ही काम कर रहे थे। बाकी के जो मास प्रोडक्शन में थे वो सभी एनर्जी फील्ड बॉक्स के अंदर एक ऐसे पासवर्ड से लॉक थे जो सिर्फ मास्टर संग जानते थे और इस से पहले की वो किसी को बता पाते वो कोमा में चले गए.......यहाँ तक कि सी आई ए का बेस्ट हैकर जो उस पासवर्ड को हैक कर सकता था वह भी बेहोश पड़ा हुआ था वरना अब तक तो सी आई ए इन सभी की बैंड बजा चुकी होती। 

बहुत ही ज्यादा टेंशन का माहौल था क्योंकि अब वो रोबॉट्स ब्रिज की टूटी हुई जगह से कुछ कदमों की ही दूरी पर और अगर उन ने ब्रिज पास कर लिया तो......

“(एलेन......उनकी ओर एक बार फिर से स्मोक ग्रेनेड छोड़ो)” सृजल की आवाज सुनते ही जो खुशी और सुकून एलेनोरा के जहन में आ गया उसका वर्णन करना आसान नहीं था। एलेनोरा और उसके साथियों ने के बार फिर स्मोक ग्रेनेड फेंके और एक बार फिर धुंआ ही धुंआ हो गया

एलेनोरा की आंखों के सामने ही सृजल दौड़ता हुआ गया और ब्रिज के टूटे हिस्से के ऊपर से छलांग लगा दी। एलेनोरा उसे रोकना चाहती थी पर तब तक सृजल उस पर पहुंच कर धुंए में गायब भी हो चुका था और अभी तक के मुकाबले से यह बात तो साबित हो ही गयी थी कि इन रोबोट्स के पास या तो थर्मल सेंसर नहीं थे या फिर जो भी इहने कंट्रोल कर रहा था वो बिना आइडेंटिटी की जांच किये किसी को भी नहीं मारना चाहता था इसलिए धुंए के दौरान ये रोबोट्स हमला नहीं कर रहे थे।

आगे की तरफ सिर्फ रोबोट्स ही थे इसलिए सृजल के लिए यह काम और भी आसान हो गया, उसने अपने बाटन को एनेर्जी-चार्ज किया और रोबोट्स से छुपते हुए ब्रिज के किनारे से होते हुए पहले रोबोट के पीछे जाकर उस छोटे काले बॉक्स को अपना निशाना बनाया जो किसी TV के सेट-टॉप बॉक्स की तरह दिख रहा था। सृजल ने पूरी ताकत के साथ अपना पीली ऊर्जा से भरा हुआ बाटन उस बॉक्स जैसी संरचना पर दे मारा...........”कर्रssssssssss.......... चनssssssss.....” बिजली और मशीन के खराब होने जैसी आवाज के साथ पहला रोबोट निढाल से हो गया पर अच्छा हुआ कि वो गिरा नहीं पर इस आवाज से रोबोट्स का ध्यान जरूर सृजल की ओर चल गया.............?!

......पर सृजल उन्हें दिखा ही नहीं और वहाँ पर वो खराब हुआ रोबोट ही था जिसके कनेक्शन काटने की खबर सृजल के हिसाब से कुछ ही पलों में रेड ऑक्टोपस के उस शातिर बंदे को लग ही जाएगी जो इन्हें कंट्रोल कर रहा है। इसलिए सृजल ने समय खराब नहीं किया और बाकी रोबोट्स को भी एक-एक करके निशाना बनाने लगा कि अचानक ही सृजल की ओर उस धुंए को छटने से चले ही हड़बड़ी में रेड ऑक्टोपस के जो सैनिक रोबोट्स के पीछे खड़े हुए थे उन ने गोलियां चलाना शुरू कर दिया। 

“अरे नहीं...!” एलेनोरा की चिंता बढ़ गयी “अगर ये लोग इसी तरह गोलियां चलाते रहे तो.......” उसके मन में सृजल को लेकर किसी अनहोनी का ख्याल आया

“आल यूनिट्स(All units)......... भिड़ने के लिए तैयार रहो!” एलेनोरा ने तुरंत हमला नहीं किया क्योंकि इस से सृजल को चोट पहुंचने की संभावना थी और यह रिस्क(Risk) एलेनोरा कतई नहीं लेना चाहती थी। वो सभी के साथ धुंए के छटने की राह देखने लगी अपने सामने से धुंआ छटते ही एलेनोरा और 20 एजेंट्स पल के टूटे हिस्से को पार करके उस ओर पहुंच गए जहां पर उनके सामने कुछ रोबोट्स निढाल पड़े हुए थे। 

“फसस्ssssssssss....... बूमssssssss.....!” सामने के धुंए में से 10-12 के करीब मिनीं मिसाइल्स हवा में किसी भले की तरह उठी और रेड ऑक्टोपस के सैनिकों की ओर बढ़ने लगी.....जिसकी उम्मीद न तो रेड ऑक्टोपस के सैनिकों को थी और ना ही एलेनोरा कि टीम को........और उनकी ही आंखों के सामने उन मिसाइल्स ने रेड ऑक्टोपस के सैनिकों के काफिले को हवा में आग से लिपट कर उड़ा दिया.......!

धुंआ छट गया तो उन सभी की नजर एक आखिर रोबोट पर पड़ी जिसके ऊपर सृजल पीचगे की ओर लटका हुआ था और काफी हाँफ रहा था। उस रोबोट के निढाल होते ही सृजल भी उस से टिकता हुआ जमीन पर बैठ गया.........इसी तरह तहक़ी हुई आंखों से एलेनोरा को देख कर मुस्कुराया और......थम्बस-अप(Thumbs-up) का इशारा किया। 

एलेनोरा भागते हुए उसके पास आ गयी और उसे गले से लगा लिया......यह प्यार था....और एक तरह से एलेनोरा के डर का आश्वासन भी। कुछ ही पलों में उसे अपनी बाहों से छोड़ते हुए एलेनोरा ने पूछा

“कम से कम एक बार पूछ तो लेते.......बिना बताए ही कूद पड़े, कुछ हो जाता तो?.....” एलेनोरा की आवाज में कुछ सिसकियां भी थी और आंखों में नमी.....

“यहीं तो एक मौका था रेड ऑक्टोपस की चाल को पलटने का.....” सृजल ने अपनी साँसों को संभालते हुए जवाब दिया “और वैसे भी जब तक हम दोनों एक-दूसरे के साथ है तब तक......भला हम दोनों को कुछ हो सकता है क्या?”

सृजल इस परिस्थिति में भी मुस्कुराया.......एलेनोरा ने अपनी मशीन-गन संभाली और अपने साथियों को आगे बढ़ने का आदेश दिया। 

“वैसे तुमने उस रोबोट को कंट्रोल कैसे किया?........अगर हम इन्हें मैनुअली(Manually) कंट्रोल कर सकते है तो इस लड़ाई का रुख कुछ ही समय में बदल पाएंगे?”

“मैंने उसे कंट्रोल थोड़े ही किया.......बस वो तो एक लक(Luck) था” सृजल ने फिर से मुस्कुराते हुए जवाब दिया “आखिर वाले को मारने गया तो मेरा निशाना चूक गया और उसने मिसाइल्स से अटैक कर दिया.....वो तो समय रहते मैंने उसके अंदर बाटन को फँसाते हुए उसका रुख दूसरी तरफ मोड़ दिया,,,इसलिए वो मिसाइल्स रेड ऑक्टोपस के सैनिकों की ओर चले गए....हाहाssssss”

सृजल की इस बात पर एलेनोरा भी मुस्कुराई कि तभी उन एजेंट्स में से एक नए एलेनोरा को कहा

“मैम! रेड ऑक्टोपस के कुछ सेनिक अभी भी जिंदा है, हमे जल्दी से उन पर हमला करते हुए उन्हें संभालने का मौका नहीं देना चाहिए”

“ठीक है!......” एलेनोरा ने आगे बढ़ते हुए कहा “यहीं पर रहना सृजल! जुलिया तुम्हे यहां से वापस ले जाएगी...अब तुम्हारा काम खत्म.....आराम करो” और इसी के साथ एलेनोरा अपनी मशीन गन के साथ आगे बढ गयी। 

सृजल ने आंखें बंद की और वहीं पर बैठा रहा, गोलिबरियों की आवाज अब उसे धीमे से सुनाई दे रही थी। वह जानता था कि एलेनोरा जितना आगे बढ़ेगी उसे उतना ही खतरा देखने को मिलेगा.....वह यह बात तो जानता ही नहीं था कि एलेनोरा सी आई ए की सबसे बेस्ट एजेंट्स में से एक है, उसके लिए तो एलेनोरा भी भी एक पुलिस अफसर है जो अपने अच्छे कामों के कारण यू एन ए(असल में सी आई ए) के साथ काम में फंस गई। सृजल को भरोसा था कि एलेनोरा इस सब से काफी आसानी से निपट सकती है क्योंकि 6 साल पहले रशिया में भी एलेनोरा इतनी ही जिद्दी और रिस्क उठाने वालों में से थी और इसी चक्कर में उन ड्रग डीलर्स के साथ भी काफी आसानी से भिड़ गए थी!(वो असल में सिर्फ ड्रग डीलर्स नहीं थे बल्कि ह्यूमन ट्रेफिकिंग(Human Trafficking) और हथियारों की गैरकानूनी तस्करी में शामिल ‘रेड ऑक्टोपस’ के ही लोग थे जिसकी जानकारी सृजल को तो बिल्कुल ही नहीं थी?)

///////////////////////////////////////////////////

कारलोस के ग्रुप में अब काफी सुधार था, क्योंकि जैसे ही कारलोस ने उन रोबोट्स की कमजोरी ढूंढी थी सभी ने पहले रोबोट्स को ही टारगेट किया था...और अब रोबोट्स वहाँ पर निढाल पड़े हुए थे। बचे हुए रेड ऑक्टोपस के सैनिकों से लड़ना फिर भी थोड़ा आसान ही था पर बड़ी मुश्किल उनके पास वो आधुनिक हथियार थे जो एनर्जी प्लाज्मा(Energy plasma) का ब्लास्ट करते थे, इनका वेग इतना ज्यादा था कि अगर एक भी वार किसी को लग जाता तो बहुत ही गम्भीर हालात हो सकती थी। खैर सी आई ए के एजेंट्स के पास एक फूल-बॉडी(Full-body) शील्ड थी जो उन्हें इन हमलों से कुछ हद तक बचाये रखे हुए थी। सामान्य गोलियां उन सैनिकों पर बेअसर थी क्योंकि उनके आर्मी सूट में भी एनर्जी प्लाज्मा की एक पतली सी कवच थी जो उस गन से जुड़ी हुई थी.......यानी गन डोर होते ही वो आर्मी सूट सामान्य ही हो जाते। 

“भड़ामsssssssss.........” उच्च रेड ऑक्टोपस के सैनिकों ने एक साथ फायरिंग की जिसकी वजह से शील्ड रखे हुए वो सी आई ए के एजेंट्स किसी सूखे पत्ते की तरह उड़ कर दूर जा गिरे। एक किनारे में कारलोस थका हुआ मैथ्यू को बचाते हुए बैठा था जिसकी ओर अब वो सैनिक बढ़ रहे थे

“अबे जॉर्ज के बच्चे!” कारलोस गुस्से में चीखा “अब क्या सीधे मेरी मैय्यत पर ही आएगा?”

“फर्ररsssssssss........... आहsssssssss.....” कारलोस के पीछे से जॉर्ज आग की मदद से ऊपर उछला और बहुत सारी आग किसी पंप से निकले पानी की तरह धार लगा कर उन रेड ऑक्टोपस के सैनिकों पर छोड़ दी! सामने के कुछ तो जल ही गए और बाकी बचे वाले पीछे हट गए, भले ही उनके पास प्लाज्मा शील्ड की लेयर(Layer) हो पर फिर भी जॉर्ज की आग का फव्वारा झेलना कहीं से भी सही साबित नहीं होगा। 

“मैं तो यहीं पर था......फिर इतना चिल्लाने की क्या जरूरत थी? ख़ामख़ा दुश्मन को चेतावनी सी दे दी” जोर ने पीछे आकर कारलोस को खड़ा होने में मदद की

“अब तू इतनी देर लगा रहा था कि पता चले तेरे आने से पहले ही मेरा काम तमाम हो जाता!” पीछे जिस बिल्डिंग के ऊपर इथन और रोबर्ट थे उसी बिल्डिंग के अंदर जाते हुए कारलोस से कहा

बाहर के हालात काबू में जरूर थे पर अच्छे नहीं थे, रेड ऑक्टोपस के सैनिकों की संख्या कम हो गयी थी पर अभी भी वे काफी सारे थे और उनसे लड़ते-लड़ते सभी थक चुके थे। मैथ्यू की पावर से बचने के लिए दुश्मन के सैनिकों के पास EM इंटरफ़्रांस(Interferance) हेलमेट्स थे जिसके कारण मैथ्यू अपनी शक्तियों का उपयोग नहीं कर सकता था। कारलोस के वार से भी काफी सैनिक बाख गए3 थे उनकी प्लाज्मा शील्ड के कारण पर कारलोस उनकी प्लाज्मा गन्स से थोड़ा घायल और थक जरूर चुका था, बोरिस भी इन शील्ड्स और गन्स के कारण सीधे किसी भी बड़े से जानवर में बदल कर हमला नहीं कर सकता था पर टाइगर स्नेक(Tiger snake) बन कर जितनो को काट सकता था उन्हें अभी भी काट कर जहर से मारने में लगा हुआ है और रही बात जॉर्ज की तो एक वहीं है जिसकी पावर अभी कमजोर नहीं पड़ी थी और ना ही उसे कोई चोट लगी थी। 

“सृजल की कोई खबर हाथ लगी क्या?.......वो अब तक बाहर निकल की नहीँ...” बिना कारलोस को देखे हुए जॉर्ज ने पूछा

“हां... वो ठीक है और बेस को तबाह करके ही बाहर आया है” कारलोस ने कुछ मुस्कुरा कर कहा “अभी ब्रूकलिन ब्रिज के पास आराम कर रहा है”

“चलो अब जब उसने अपने हिस्से का काम पूरा कर ही दिया है तो जरा मैं भी माहौल में आग लगा ही देता हूँ” चौड़े होटों से लंबी सी मुस्कान लेते हुए वो बाहर निकल गया। 

सामने कुछ रेड ऑक्टोपस वाले सैनिक झुंड बना कर कुछ सी आई ए के एजेंट्स को कोने में कर रहे थे, जॉर्ज ने तुरंत ही एक आग का गोला थोड़ा बड़ा करके उन सैनिकों पर दे मारा! वो आग का गोला किसी छोटे से बम की तरह फटा और वो सैनिक ब्लास्ट हो कर पीचगे जा गिरे

“शनन्नsssssssss........ धाड़ssssss.....!”तभी कुछ प्लाज्मा गन की फायरिंग ने उन रेड ऑक्टोपस के झुंडों को मारना शुरू कर दिया, रेड ऑक्टोपस के सैनिक हैरान से हो गए और इसी हैरानी में मारे भी गए.........जब जॉर्ज और बाकी एजेंट्स ने बाईं तरफ जाने वाली ब्रूकलिन की सड़क की ओर देखा तो एलेनोरा और उसके 20 साथी प्लाज्मा गन लिए हुए इसी तरफ आ रहे थे। उन्हें देख कर सभी लोग खुश हो गए। 

“इन सभी की गन्स को उठा लो, अभी बहुत सारा काम बाकी है” एलेनोरा ने तेजी से आगे बढ़ते हुए सभी सी आई ए के एजेंट्स को कहा और उन सभी ने प्लाज्मा गन्स उठा ली। चलते हुए एलेनोरा जॉर्ज के पास रुकी, उसकी नजर जॉर्ज के जलते हुए हाथों पर गयी और दूसरी नजर वहाँ पर जल पड़े रेड ऑक्टोपस के गुंडों पर.........  

“मेरी किस्मत अच्छी थी जो पिछली बार कारलोस ने तेरे आग के गोले से बचा लिया था” एलेनोरा ने बहुत ही व्यंगात्मक मुस्कान जाहिर की “पर इन सब की किस्मत बहुत ज्यादा ही खराब थी”

“हां वह तो है” जॉर्जे ने नाक ऊंची करके गर्व के साथ जवाब दिया

“हे एलेन!” उधर बिल्डिंग के अंदर से कारलोस और मैथ्यू बाहर निकले “क्या हाल है?” कारलोस अब पहले से कम गहरी सांस ले रहा था पर उसे देख कर लग रहा था कि किसी ने मारपीट की हो। 

“फिलहाल सारे पॉइंट्स काबू में है पर अभी तक चोंगयुन वाले ग्रुप की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है” एलेनोरा ने कारलोस को ऊपर से नीचे तक देखा “क्या किसी ने तेरी पिटाई.........!”

एलेनोरा की बात बीच में रुक गयी और सभी के चेहरे की चिता अचानक ही बढ़ गयी क्योंकि ट्रांसमीटर पर इस वक्त इथन चिल्ला रहा था और वो जो चिल्ला रहा था वो बिल्कुल भी अच्छा नहीं था। 

“( ये एक इमरजेंसी है...मैं फिर से कहता हूँ यह एक इमरजेंसी है। चोंगयुन और उसने साथी सैमुएल ने रेड ऑक्टोपस के सभी गुंडों की धज्जियां उड़ा दी है और उनकी लाशों के टुकड़ों से लथपथ वो इसी ओर आ रहा है.........जल्दी से अगली कमांड दो एलेनोरा!)” 

इधर इथन की बात पूरी ही हुई थी कि आसमान से कोई बड़ी सी चीज आके एलेनोरा के ठीक सामने कुछ 500 मीटर की दूरी पर आ गिरी। धूल-धुंए में गम वो विशालकाय साया था जिसकी उपस्थिति मात्र से सभी के रोंगटे खड़े हो गए थे। शरीर कुछ ऐसे कांप रहा था कि गन्स भी ठीक से पकड़ी नहीं जा रही थी.........और उस धुंए के हटते ही सामने चोंगयुन और सैमुएल खड़े हुए थे। उस नजारे को देखकर सभी की आंखे फटी की फटी ही रह गयी! चोंगयुन जो एक विशाल राक्षस में बदल हुआ था वो खून में लथपथ था पर वो खून उसका नहीं था.....हाथ में दो लाशें थी जो बहुत ही ज्यादा कट-फट गई थी एक कि तो अंतड़ियां और अमाशय बाहर की ओर लटक रहा था और दूसरे का सर नहीं था। चोंगयुन कुछ चबा रहा था और सभी को घूरे जा रहा था। सैमुएल भी बहुत ही बुरी वाइब्स(Vibes) दे रहा था, उसके वाइट शर्ट भी आधी खून में लथपथ थी। सभी एकदम चुप थे इतने ज्यादा चुप थे कि आने वाले शोर शायद मौत ही ले कर आये....

अचानक ही चोंगयुन का चबाना रुक, वो दांत फाड़े मुस्कुराया तो उसके मुंह से बहुत सारा खून गिरने लगा जैसे किसी शरीर के अंग को पूरी तरह से निचोड़ दिया हो और उसी खून में से कोई चीज गिरी जिसकी झलक पाते ही मैथ्यू की हमलक से थूक उत्तर गया......

.........वो एक आंख थी!



Rate this content
Log in

Similar hindi story from Crime