Tejeshwar Pandey

Abstract


4.5  

Tejeshwar Pandey

Abstract


शराबी की आत्मकथा

शराबी की आत्मकथा

4 mins 24.4K 4 mins 24.4K

शराबी की आत्मकथा शीर्षक इसलिए हमने दिया है आप भी अपने जीवन में नशे से दूर रहे यदि नशा करेंगे तो समाज में और स्वयं अपने आप को भी आप शराबी के रूप से ही पहचाने जाएंगे। और जब आप या आप के अपने आप की पहचान बताये तो एक अच्छे इंसान की पहचान बताये न की एक शराबी। इसलिए एक शराबी की आत्मकथा से अच्छा एक बेहतर इंसान की आत्मकथा बनना अच्छा है।

जीवन अच्छा बीत रहा था - मेरा काम काज भी अच्छा चल रहा था । मुझे अपने काम से लगाव था और यह लगाव काम के प्रति मेरी निष्ठा में सहज ही दिख रहा था। मैं जल्दी ही विकास की सीढ़ियों पर चढ़ने लगा। मुझे देश विदेश की यात्रा करना और अपने काम काज के प्रति बड़े फैसले करने करना बोहोत पसंद था। सब कुछ सही चल रहा था। उन दिनों मेरे सामने नई ज़िम्मेदारियों के साथ मनोरंजन करने के लिए नए विकल्प सामने आगये थे। मुझे बड़ी बड़ी पार्टियों में जाना अच्छा लगता था और वह से मुझे खूब बुलावे भी आने लगे थे । मुझे पार्टियों में ड्रिंक करना बहुत पसंद था। धीरे-धीरे मैं उस दुनिया में खिंचता चला गया जहाँ शराब एक ज़रूरत बन गई। हालाँकि मेरे दोस्तों ने मुझे इसके परिणामों के बारे में चेतावनी दी थी, फिर भी मैंने उनकी बात नहीं मानी और मैं सिर्फ़ उस पल में जीना चाहता था। जल्द ही मुझे शराब की लत लग गई।

धीरे-धीरे मैं उस दुनिया में खिंचता चला गया जहाँ शराब एक ज़रूरत बन गई थी । मेरे नशे की लत एक ऐसे मुकाम पर पहुंच गई थी की जहाँ मैं लगातार कई दिनों तक शराब पीता रहता था सारे काम काज छोड़ बस नशे में डूबे रहता था ।

कभी-कभी, ऐसा लगातार पांच से छह दिनों तक चलता रहता था। मैं जितने घंटों तक जगा हुआ रहता था, उतनी देर तक पीना चाहता था। शराब मेरी एक जरुरत बन गई थी । इस नशे की लत के अपने सबसे निचले स्तर पर, मैं तब तक पीता रहा जब तक कि मेरा शरीर जवाब न दे गया। जो ऑफिस की पार्टियों में एक नुकसान न पहुंचाने वाले मनोरंजन के रूप में शुरू हुआ, वह अब मेरी जान लेने के लिए तैयार था।

मुझे लगा कि मेरे खुद के जीवन पर मेरा कोई नियंत्रण ही नहीं है। मुझे खुद पर शर्म आ रही थी। मैं लोगों से घुलना-मिलना नहीं चाहता था, मैं अपने घर से बाहर नहीं निकलना चाहता था, जल्द ही शराब ने मेरे परिवार में अशांति मचा दी। मैं हर रात शराब के नशे में घर वापस आता था और मैं अपने सबसे करीबी लोगों को चोट पहुँचा रहा था।

मैं अपने जीवन पर नियंत्रण पाना चाहता था, मैं बदलना चाहता था, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर पा रहा था। मैं अपनी इस लत के कारन कभी कभी बोहोत दुखी और हताश होकर रोया करता था। मुझे मदद की ज़रूरत थी।

इसके बाद मेरे ठीक होने की प्रक्रिया शुरू हुई। नशे की लत लगे मुझे दस साल हो गए थे। शराब ने मेरे शरीर और मेरे रिश्तों को बर्बाद कर दिया था। मुझे इसे रोकना था। लेकिन यह आसान नहीं था। मुझे एक ऐसे मुकाम पर आने में दो से तीन साल लग गए जहां मुझे अब शराब की जरूरत नहीं थी। मैं यह स्वीकार करता हूँ कि मेरे वापस ठीक होने की यह यात्रा आसान नहीं थी। फिर कुछ सालो बाद मैं फिर इस ओर मुड़ गया। लेकिन मैंने फिर से कोशिश की और सच्चाई का सामना – किया कि इसे रोकना होगा। 

अब मैं ऐसे व्यक्ति का दोस्त बन गया, जिसने बहुत धैर्य और दृढ़ता के साथ मुझे एक बार और हमेशा के लिए शराब छोड़ने में मदद की। उन्होंने मुझे यह महसूस करने में मदद की कि मुझे असफल व्यक्ति की तरह नहीं रहना है, जीवन में आशा और कई अच्छी चीजें भी होती हैं। आज मैं शराब का गुलाम नहीं हूँ। आखिरकार मैं एक स्वतंत्र व्यक्ति के रूप में मेरे आसपास की सुंदरता का आनंद लेने में सक्षम हूँ।

में अपनी और से बस यही कहना चाहता हु की नशा इंसान को आबाद नहीं बर्बाद करता है ये शुरू में तो बोहोत अच्छा लगता है जबतक आप नशे में होते है तब तक तो सब अच्छा लगता है सारी दुनिया रंगीन लगती है। नशा उतारते ही सारा रंगीन जहां बेरेंगीं बन जाता है इसी लिए नशे का गुलाम मत बनो नशा इंसान को बस बर्बाद करता है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Tejeshwar Pandey

Similar hindi story from Abstract