Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Mitali Mishra

Tragedy


3  

Mitali Mishra

Tragedy


रंग जिंदगी के

रंग जिंदगी के

3 mins 63 3 mins 63

निलिमा अपने रूम के खिड़की से बाहर हो रहे बारिश का लुफ्त चाय के साथ ले रही थी कि तभी उसकी नज़र एक लड़की पर पड़ी जो करीबन १० से १२ वर्ष की होगी।वो बारिश में पूरे मस्ती के साथ हंस्ती खिलखिलाती झुमती दुनिया के माया से बेखबर अपनी धुन में चली जा रही थी।उसे देखकर निलिमा को अपना बच्चपन याद आ गया,वो भी तो कुछ ऐसी ही थी, कैसे वो भी बारिश के दिनों अपने भाई बहन के साथ खेलती कूदती रहती थी, कैसे अपने मां और बापू से छिप छिपाते गांव के और बच्चों के साथ हुड़दंग मचाती।सच में वो भी क्या दिन थे, बेफिक्र सा, उन्मुक्त पंछी के तरह इधर उधर फुदकने का,तब जिंदगी का करवा स्वाद कहां चखा था हमने।उस वक्त तो जिंदगी का एक रंग ही नजर आता था और वो रंग था इंद्रधनुषी रंग,और अपनी छोटी सी दुनिया में उस रंग के साथ खुश रहना इतना ही आता था हमें। परन्तु वो सात रंगों का इंद्रधनुषी रंग वक़्त के साथ कब अलग अलग हो जाता है,इस बात का एहसास तब हुआ निलीमा को जब उसकी जिंदगी एक हसंते खेलते जिंदगी से बदलकर काले रंग में तब्दील हो गया।

क्यूंकि अब निलिमा वो बच्ची नहीं रही वो अब पत्नी बन चुकी थी, एक ऐसे इंसान की पत्नी जिसके नजर में पत्नी की कोई एहमियत नहीं थी।निलिमा रोज यातनाओं के दल दल में धंसती जा रही थी,उसे अपना अस्तित्व विलीन नजर आ रहा था।इन सब के बिच एक अच्छी बात ये हुई कि निलिमा गर्भवती हो गई थी अब।और धीरे धीरे रोज के ताना और यातना को सह कर भी निलिमा इसी ख्वाब में जीने लगी थी कि बच्चे के आने के बाद सब ठीक हो जाएगा और अंततः वो दिन भी आ ग‌ए और निलिमा ने एक खुबसूरत सी बच्ची को जन्म दिया, परन्तु ये क्या,जो ख्वाब निलिमा ने सोचे थे और देखें थे कि सब ठीक हो जाएगा बच्चे के आने से तो ऐसा कुछ नहीं हो पाया।और इस तरह एक दिन निलिमा अपने और अपने बच्ची के लिए वो घर सदा के लिए छोड़ दिया क्योंकि वो अपनी बेटी को इस माहौल में पालना नहीं चाहती थी।अपने अकेले सफर पर निलीमा ने ठोकर तो बहुत खाया परन्तु आज वो एक कालेज की प्रोफेसर बन चुकी थी,सामाज में अपनी पहचान बना चुकी थी।उसके सफर में सिर्फ वो और उसकी बेटी थी।अपने अतीत के पन्नों में निलिमा इस कदर खो गई थी की उसे समय का पता ही नहीं चला कि तभी सहसा फोन की घंटी सुनाई दिया।निलिमा को ऐसा लगा मानो किसी ने गहरी नींद से जगाया हो,फोन उठाते उधर से आवाज आई कि "मैम छुट्टी हो गई सारे बच्चे निकल ग‌ए,आप कब आएंगी परी( निलिमा की बेटी) को लेने।" इतना सुनते ही निलिमा ने कहा कि "बस पांच मिनट में आ रही हूँ ,अब तक बारिश भी खत्म हो चुका था आसमान बिल्कुल साफ था पर हां आज फिर निलिमा को अपनी सतरंगी जिंदगी की तरह इंद्रधनुष रंग दिखा !



Rate this content
Log in

More hindi story from Mitali Mishra

Similar hindi story from Tragedy