Sushma Tiwari

Romance

4  

Sushma Tiwari

Romance

नमक स्वादानुसार

नमक स्वादानुसार

3 mins
316


"अरे प्रेरणा ! तुम यहाँ नीचे खड़े होकर गप्पे मार रही हो.. मैं तुम्हें पचास कॉल कर चुका हूँ तबसे, मेरी जरूरी फाइल घर पर रह गई है.. लेट हो जाऊँगा आज पक्का मीटिंग में " निखिल बाइक खड़ा कर लिफ्ट की ओर जाते हुए बोला।

"रुको मैं लाकर देती हूं." . कहकर प्रेरणा झटपट उपर जाकर फाइल लाती है और निखिल को मुस्कराते हुए देती है। निखिल भी हल्की मुस्कान देते हुए निकल जाता है। 

तभी वहाँ खड़ी राशि और मीरा उसे घूर कर देखती है जैसे कोई अजूबा देख लिया हो। 

"ये क्या प्रेरणा ? निखिल ने तुम्हारी इनसल्ट की और तुम मुस्करा रही हो ?" राशि ने गुस्से से पूछा। 

"यार तुम्हारे जैसी औरते ना बर्दाश्त करके ईन मर्दों को सर पर चढ़ा कर रखती है.. ऐसे कौन बात करता है अपनी पत्नी से भला ?" मीरा तो पूरे युद्धस्तर पर तैयार थी। 

"अरे अरे आराम से.. ऐसा भी क्या हो गया भला.. और कौन सी बेइज्जती ? हम पति पत्नी है बहनो.. अगर इतना भी हक ना हो कि अपने खराब मूड को एक दूसरे के सामने जता सके तो क्या फायदा ? " प्रेरणा ने समझाया। 

" अच्छा! तो खराब मूड का मतलब कि सारे काम का ठेका औरत ने ले रखा है क्या.. फाइल याद रखना उसकी जिम्मेदारी थी ना कि तुम्हारी.. वो ऑफिस जाता है और तुम घर पर रहती हो इसका मतलब ये नहीं कि तुम घर पर उपलब्ध रहो कॉल लेने के लिए "मीरा ने फिर अपनी बातों का जाल फेंका। 

" तुम्हारी बात सही है मीरा पर.. इसको अलग तरह से समझो.. सच में उनकी मीटिंग है और कल रात वो मेरी जिद पर लेट नाइट मूवी गए थे और मैंने कहा था कि हो जाएगा सब कुछ सुबह.. और वो फाइल भूल गए.. शायद उनका रिएक्शन बहुत कठोर था पर अगर मैं भी इसी समय अपना गुस्सा दिखाऊँ तो शायद बात और बिगड़ती.. फालतू की बहस होती और जिस काम के लिए वो निकले वो ढंग से नहीं हो पाएगा। हमे अपने रिश्तों को हेल्थी रखना चाहिए। छोटी छोटी बातों को लंबा खींचना.. मान - अपमान की बाते सब प्यार के आगे छोटी है यार ! मैं भी बहुतेरे गुस्सा दिखाती हूं इन पर तब ये ठंडे दिमाग से सुनते हैं और समझाते हैं ना कि तुरंत रिएक्ट करते हैं। गलती उनकी भी नहीं होती है पर मैं किसे सुनाऊँ भला ? तो ऐसा है हमारे रिश्ते में प्यार, विश्वास, नोकझोंक

सब है पर नाराजगी बिल्कुल नमक की तरह.. स्वादानुसार! " प्रेरणा ने हंस कर बोला। 

तभी प्रेरणा के फोन पर मैसेज फ्लैश हुआ " सॉरी ! मुझे ऐसे नहीं बात करनी चाहिए थी यार.. शाम को तुम्हारा गुनहगार हर सजा के लिए हाजिर रहेगा

तुम्हारा निखिल। 

प्रेरणा ने जवाब में लिखा नौटंकी।"


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Romance