anuradha nazeer

Abstract


4.6  

anuradha nazeer

Abstract


माँ कुछ तो बोलो ?

माँ कुछ तो बोलो ?

1 min 173 1 min 173

माँ कुछ तो बोलो ?

मेरी माँ का मृत्यु हो चुकी

कितना दुख, कई मुसीबतें

कई कोने से बेटा बेटी आना है

मगर क्या करें ?


कोई आ न पाया !

कुछ भी परिवहन नहीं ?

बंद, करफ्यू, एक दम रोक

क्याकरें हम लोग ?


कोराना का प्रभावित

भगवान जाने कितनी मुसीबत

राम राम ये सब मगर क्यूँ में ?

सिर्फ उनके जयेष्ट पुत्र ने

सब कुछ कर चुका ?


क्या करें ?

तकदीर को कोई नहीं जानता ?

दिल में गम और 

आंख में नम

अंत में काम 


सोचती हूं माँ

क्यों छोड़ कर गई तुम ?

इतना परेशान में ?


Rate this content
Log in

More hindi story from anuradha nazeer

Similar hindi story from Abstract