Yashwant Rathore

Drama Romance Tragedy


4  

Yashwant Rathore

Drama Romance Tragedy


ख्वाहिशें

ख्वाहिशें

2 mins 214 2 mins 214

 (एक्टिंग क्लास में समर, रूबी, लक्ष्मण आए हैं। कुछ और साथी भी है। कल हो चुके प्ले की बातें हो रही है।)

रूबी- ( समर अपने आप में बिजी) समर, कल का तुम्हारा एक्ट कमाल का था। तुम बहुत इंप्रेसिव लग रहे थे। 

लक्ष्मण - रूबी आप भी कमाल लग रही थी। कितना क्रिएटिव आईडिया था। और समर तू कैसा है?

रूबी -(लक्ष्मण को इग्नोर करते हुए ) समर इवनिंग में फ्री है क्या ?

समर - नहीं यार मै और रिया जा रहे हैं, मूवी का प्लान था, वह पहले से ही था। नेक्स्ट टाइम पक्का...

लक्ष्मण - रूबी कौन सी मूवी है वैसे ?

रूबी - (दुखी होकर) तुम्हें क्या करना?

लक्ष्मण- ( समर जाने लगता है) समर !

समर - क्या है?

लक्ष्मण - तुझे नहीं दिखता यह तुझसे कितना प्यार करती है।

समर - तो क्या करूं? मेरी वह अच्छी दोस्त है बस।

रूबी -(नजरें झुका लेती है) समर ठीक ही तो कह रहा है, दोस्त ही तो है बस।

लक्ष्मण - और यह जो तुम लोग रूम पर मिलते हो वह।

समर - अबे साले तुझे कैसे पता है 

रूबी - तो तू पीछा करता है मेरा?

समर - रूम पर आती है तो क्या? बैठते हैं, ड्रिंक करते हैं। तुझे कोई तकलीफ है ?

( लक्ष्मण  समर की गर्दन पकड़ लेता है)

रूबी -, नहीं नहीं, ये बस ये जानना चाहता है कि हममें कुछ हुआ कि नहीं? कुछ फिजिकल। है कि नहीं ?

(तभी वॉइस ओवर, सर की आवाज )

सर - क्या हो रहा है ऊपर?

(सर आते हैं उनको देखते ही )

रूबी - सर, यह लक्ष्मण पागल हो गया है।

समर - बेवकूफ हाथापाई कर रहा है सर।

लक्ष्मण -(सारी फिलिंग दबाते हुए, रिलैक्स करते हुए )- अरे सर, इन दोनों को तो क्या, सबको बेवकूफ बना दिया। इंप्रोवाइज कर रहा था। हाउ वाज़ द एक्ट ?

सर - (लक्ष्मण की आंखों में देखते हैं, सब कुछ समझते हुए भी ) चलो चलो ठीक है। आज के प्ले की रिहर्सल स्टार्ट करो।


Rate this content
Log in

More hindi story from Yashwant Rathore

Similar hindi story from Drama