Vinayak Ranjan

Drama


4.2  

Vinayak Ranjan

Drama


कालसर्प योग और कलाली का आत्मीय आलिंगन..

कालसर्प योग और कलाली का आत्मीय आलिंगन..

1 min 43 1 min 43

जेठ की भरी दुपहरी में गाँव से बाहर नहर किनारे बसे डोमटोली की ओर लम्बी डेग मारे एक अजीब से हताशे में भागा चला जा रहा था …माथे पे लाल गमछी धोती पहने देह में बस जनेऊ का लेस। पुरखों की एक पुरानी चाँदी लगे संदुक को बमुश्कील..

चंद पैसों के खातीर अभी-अभी ठेगन बनिया के पास गिरवी रख छोड़ा है।

अभागे को काल-सर्प ने डंस रखा है.. जाएगा कहाँ.. वहीं जा बैठेगा झाड़ लगे.. कलाली में।

बचपन से ही इस शब्द ने अपनी काया हमारे जीवन-शैली में यों पिरोया है कि चलते चलाते कहीं अगर दिख जाए तो मन उस मदमस्त छाँव को छूने मचल ही पङता है। कालेज से निकल डुमराव जाने के क्रम में राजा सोनार की पुरानी हवेली के सामने रोड से सटे कलाली में ताडीबाजो की लगी जमघट को देख मैं कुछ पलों के लिए रुक सा गया.. मानो इस भरी दुपहरी में इस ताडी-तीर्थ के भी दर्शन कर ही लुं।


Rate this content
Log in

More hindi story from Vinayak Ranjan

Similar hindi story from Drama