Priya Kanaujia

Tragedy


4.7  

Priya Kanaujia

Tragedy


जागरूकता

जागरूकता

2 mins 241 2 mins 241

नारी के कई रूप होते हैं जैसे- मां, बेटी और पत्नी। हमारे समाज में कुछ लोग नारी को देवी मानकर उसका सम्मान करते हैं तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो नारी की अस्मत से खेल जाते हैं । कुछ दिन पहले की ही बात है जब मेरी एक अंजान लड़की से एक आनलाइन एप पर बात हुई तो जिसे सुनकर मैं काफी परेशान हो गई। उस लड़की ने मुझे बताया कि वह काफी दिनों से परेशान है तो मैंने उससे कहा कि तुम अपनी परेशानी मुझसे बता सकती हैं शायद मैं कोई मदद कर पाऊं । इस पर उस लड़की ने बताया कि वह एक लड़के से प्यार करती है जो उसे धोखा दे रहा है और यह सब मैंने अपनी आंखों से देखा है क्योंकि वह जिसके लिए मुझे धोखा दे रहा है वह मेरी सहेली है। मैंने कहा तो छोड़ दो उसको क्योंकि वह तुम्हारे प्यार के लायक नहीं है तो उस लड़की ने बोला कि अब यह संभव नहीं है ,वह उसके साथ एक पत्नी की तरह रह चुकी है और अपनी हर सीमा लांघ चुकी है। मैंने उसे पूछा कि क्या यह बात उसके मां - बाप को पता है । उसने कहा कि नहीं पता है तो मैंने तुरंत डांटते हुए कहा कि "सबसे पहले अपने माता-पिता को बताओ इस बारे में और मुझसे तो कह दी यह बात मगर कभी किसी और अजनबी से यह बात मत बताना।" मैंने पूछा कि" वह लड़का कहां रहता है और तुम्हें परेशान तो नहीं करता है?' तो वह बोली कि वह लड़का उसके घर के पास ही में रहता है और उसके पास मेरी कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें हैं मगर अभी तक परेशान नहीं किया है। मैंने उसे समझाया कि सबसे पहले अपने घरवालों को बताओ क्या पता कल को वह लड़का उन तस्वीरों को ढाल बनाकर तुम्हें परेशान करें क्योंकि उसने मुझे बताया था कि वह लड़का अब भी उससे मिलना चाहता है। हमें जागरूक होकर अपनी बेटियों को बचाने के लिए बचपन से ही प्रशिक्षित करना चाहिए। महिला सशक्तिकरण समाज सुधार की प्रमुख आवश्यकता है क्योंकि हम महिलाएं समाज की रीढ़ हैं।


Rate this content
Log in

More hindi story from Priya Kanaujia

Similar hindi story from Tragedy