Ravindra Shrivastava Deepak

Thriller


3.5  

Ravindra Shrivastava Deepak

Thriller


इत्तेफ़ाक..एक अनहोनी (पार्ट-2)

इत्तेफ़ाक..एक अनहोनी (पार्ट-2)

3 mins 265 3 mins 265

सलोनी बहुत बेचैन और डर गई थी। रोहन को लेकर वो अंदर ही अंदर सहम गए थी। उसनें अपनें सारे करीबियों को भी फ़ोन कर थक चुकी थी लेकिन अब भी रोहन का कोई पता नहीं चल पाया था। इसी सोच में बैठकर रो रही थी तभी एक अनजान नंबर से कॉल आया। हेलो- सलोनी। हाँ, बोल रही हूं। आप कौन ? मुझे जनाने से अच्छा है कि रोहन के बारे में जानो की वो कहाँ है और कैसा है ? सलोनी (रोते हुए) हाँ..हाँ..जल्दी बताइये। रोहन कहाँ है..कैसा है ? घबराओ नहीं सलोनी। रोहन को कुछ नहीं हुआ है। वो बिल्कुल सुरक्षित है। वो अभी सुनैना देवी हॉस्पिटल के वार्ड नं- 12 में एडमिट है। उसे कुछ लोगों ने स्कूल से उठा लिया था। उसे मारने की कोशिश भी की लेकिन इत्तेफ़ाक से मैं वहाँ पहुँच गया और जान बचा ली। तुम जा कर उसे ले सकती हो। जबतक मैं हूँ तुम दोनों को कुछ नहीं हो सकता।

सलोनी-ये आपका एहसान मैं ज़िंदगी भर नहीं चुका पाऊँगी। मुझे पता नहीं की कैसे आपका शुक्रिया अदा करूँ। आप मेरे लिए भगवान से कम नहीं है। इससे पहले सलोनी उस व्यक्ति के बारे में कुछ और पूछती उसने फ़ोन कट कर दी। सलोनी हॉस्पिटल जाकर रोहन को ले आती है। रोहन से उस व्यक्ति के बारे में पूछती है तो उसने बताया कि कुछ लोग उसे ज़बरदस्ती कार में बैठाने की कोशिश कर रहे थे तभी एक अंकल ने उन सब की धुनाई की और मुझे बचाया। सलोनी- तुमने उन्हें देखा नहीं रोहन ? देखने में कैसे थे ? रोहन- नहीं मॉम। उन्होंने चेहरे पर नक़ाब लगाया हुआ था।

इधर, वो गुंडे कोई और नहीं चंदन ने ही भेजे थे। अपनी बर्बादी और बेइज्जती का बदला लेना ही अब उसका मक़सद बन गया था। इसी बदले की आग में वो पल-पल जल रहा था। उसके ज़हन में सिर्फ बदला और बदला ही सूझ रहा था। और आख़िर एक दिन उसे मौका मिल ही गया। चंदन को पता चला कि सलोनी और रोहन चिड़िया घर जानेवाले है जो घर से लगभग 15 किमी दूर था। चंदन नें रास्ते में ही उन्हें मारने का प्लान बनाया। अगली सुबह रोहन और सलोनी चिड़ियाघर के लिए निकले। गाड़ी तेजी से जा रही थी। अचानक गाड़ी असंतुलित होकर एक पेड़ से टकरा गई। दोनों बाल बाल बच गए। चंदन अपने गुंडों के साथ दोनों को मारने के लिए बढ़ा ही था कि अचानक सलोनी ने जो देखा तो उसकी आँखें खुली रह गई और फिर...

- क्या चंदन ने सलोनी और रोहन को मार दिया ? - सलोनी ने आख़िर ऐसा क्या देख लिया ? - आखिर वो नकाबपोश कौन था ? इन सब प्रश्नों के उत्तर अगली कड़ी में....


Rate this content
Log in

More hindi story from Ravindra Shrivastava Deepak

Similar hindi story from Thriller