Gurminder Chawla

Tragedy drama


2  

Gurminder Chawla

Tragedy drama


गरीब की संपत्ति (कहानी)

गरीब की संपत्ति (कहानी)

4 mins 40 4 mins 40

भीमराव : सब्जी ले लो, गोभी, भिंडी, बैगन

आज का दिन भी ऐसे चला गया नहीं बिकी पूरी तरकारी । जब पूरी सब्जी बिकती थी तब मुश्किल से कहीं गुजारा होता था। अब घर जाकर क्या होगा ? कमरे का किराया भी तो देना था। पिछले तीन महीने से किराया नहीं दिया भीमराव समझता था कि मकान मालिक को भी पैसे की जरूरत होती है पर बेचारा करता क्या ? सब्जी पूरी बिकी तो बिकी नहीं तो इतना बचता कहाँ था कि वो अपना और अपने परिवार का पेट पाल सके। यूँ तो परिवार में भी कौन से ज्यादा लोग थे। वो और उसकी बीबी साथ में छोटी छुटकी। छुटकी को यह नाम भीकू ने दिया था शायद वो देखने में बहुत छोटी थी इसलिए वरना घर के लोग तो उसे पहले नन्ही कहकर बुलाते थे। नन्ही बोलो या छुटकी क्या फर्क पड़ता है। थी तो वो सबकी लाडली। भीकू का नाम ध्यान में आते ही उसका चेहरा गुस्से से तिलमिलाने लगा। उसके बारे मे सोचते सोचते वो चाल में ठेले को किनारे लगाकर अपने कमरे की तरफ बढ़ा। दिन भर की थकान की वजह से उसको अपनी चाल एक हवेली की तरह लग रही थी और अपना छोटा सा कमरा एक महल।

भीमराव जल्दी से अपने कमरे के भीतर घुस जाना चाहता था लेकिन यह क्या ? उससे भी तेज गति से मालिक मकान उसकी तरफ बढ़ा। भीमराव ने उसे अपनी नाजुक हालात की जानकारी दी और भगवान का भी वास्ता दिया लेकिन आज मकान मालिक कुछ सुनने के मूड में नहीं था उसने उसे जल्द से जल्द कमरा खाली करने को कहा और अप्रिय भाषा का भी प्रयोग किया। थोड़ी देर में उसका दोस्त करीम भी वहाँ पहुँचा और किसी तरह मालिक मकान को समझा बुझा कर रवाना किया और कमरा खाली करने के लिये भी थोड़ी मोहलत और माँग ली।

इतनी देर मे ही भीकू वहाँ दौड़ता आया उसके एक हाथ में गुली- डंडा था और दूसरे हाथ में पतंग।

बस दिन गुजराने के लिए भी उसके यह दो ही शौक काफी थे। भीकू भीमराव की बहन का लड़का था और वह उसकी बूढ़ी बहन के छह बच्चों में से एक था उसे बहन ने पालने के लिए भीमराव के यहाँ रखा था। दिन भर स्कूल न जाकर गुली डंडा खेलते रहना और शाम को कटी हुई पतंग को सड़क पर भाग भाग कर लूटना, फिर लूटी हुई पतंगे उड़ाना यह भीमराव के गुस्से और परेशानी का भी एक बहुत बड़ा कारण थे।

अचानक एक दिन करीम उनके घर आया। वह जल्दी में था उसने भीमराव को बताया कि वह जिस फ़ैक्टरी मे काम करता है वहाँ मालिक को एक आदमी की सख़्त जरूरत है उसने मालिक से भीमराव के नाम की सिफारिश की है। भीमराव तो मानो पहले से ही तैयार बैठा था वो तुरंत राजी हो गया और अगले ही दिन से उसने फ़ैक्टरी जाना शुरू कर दिया ।

अब उस मालिक मकान से वह जल्द छुटकारा पाना चाहता था और वो दिन भी आ गया। भीमराव के पास कोई ज्यादा समान न था उसके लिए तो उसका एक पलंग ही बड़ी दौलत थी वो ही उसकी संपत्ति थी वो गया और बढ़ई ले आया। पलंग पुराने जमाने का था जिसके दोनों पल्लो को खोले बिना कहीं नहीं भेजा जा सकता था। इन पल्लो के एक सिरे को दूसरे सिरे से जोड़ने के लिए लकड़ी की दो फट्टी लगी थी। बढ़ई ने पूरे पलंग को खोला और भीमराव ने नया कमरा जो रहने के लिये लिया था वहाँ पलंग और बढ़ई के साथ भीकू को भी भिजवा दिया। उसने भीकू से कहा कि वहाँ जाकर तुम यह पलंग जुड़वा लो। नये कमरे पर पहुँचकर बढ़ई अपने काम मे लग गया और भीकू पतंग उड़ाने लगा।

अरे यह क्या अचानक भीकू पतंग छोड़ कर बढ़ई की तरफ दौड़ा उसने देखा कि बढ़ई पलंग के दोनों पल्लो को जोड़ने वाली एक लकड़ी को काटकर छोटा कर रहा है। भीकू बच्चा था और बढ़ई के काम से अनजान भी, पर इतना तो समझता था कि जब पलंग खुला तब यह पल्लो के बीच की लकड़ी जितनी थी अब वो छोटी कैसे की जा सकती है। उसने बढ़ई का हाथ पकड़ लिया और फिर उसे समझा कर पलंग जोड़ने मे मदद की।

जब भीमराव को इस बात का पता चला तो वह गद्- गद् हो उठे कि आज निखठू और निकम्मे भीकू ने उनका सबकुछ बचा लिया।

कई वर्ष बीत गये भीमराव अब बिलकुल अकेले है भीकू अब विदेश में है उसके फूफा जो वहाँ नौकरी करते थे उनहोंने भीकू को अपने पास बुला लिया लेकिन भीमराव को न जाने क्यो अब भी पलंग पर रात को सोने जाते वक्त भीकू की याद आ जाती है और भीकू की समझदारी के लिये उनकी आँखें भर जाती है ।


Rate this content
Log in

More hindi story from Gurminder Chawla

Similar hindi story from Tragedy