Nandita Srivastava

Inspirational


1  

Nandita Srivastava

Inspirational


आदिम युग

आदिम युग

2 mins 123 2 mins 123

इस लॉक डाउन में आप लोगो को कुछ अजीब सा नहीं लग रहा है,अजीब सी बेचैनी ,हर शख्स रूठा सा बेगाना सा बस आपने में जिया जा रहा है, लाशों की सियासत हो रही हो जैसे बस हर आदमी डरा डरा सा अपने जान की फ़िक्र में की हमे छूत ना लग जाये बस अपनी जिंदगी अपना परिवार बस अपना ही अपना ही अपना ,अपना पेट भर रहा है बाकी कौन भूखा है मेरी बला से बस अपना घर भर लो,अवसाद से घिरा हुआ,जबकि आज के इस महामारी में लोगो को हमलोगों की जरूरत है, हम अकेले तो सब कुछ नहीं कर सकते तो मदद की गुहार लगाते है तो कुछ लोग मदद करना दूर फोन उठाना ही बंद कर देते है, या बहुत हुआ तो हम पर सवालिया निशान लगा देते है हाँलाकि हम एहतियात बहुत बरतते है पर हम को लगता कि किसी के लिये जान देना बेहतर है ना कि खामोश मौत बस यही लगता है हम आदिम युग में आ गये है ना कि अधुनिक युग में रह रहे है बस आप लोगो से यही कहना चाहते कि कोई मदद के लिये हाथ बढ़ाये तो उसकी मदद करे यह कर्म आपके साथ ही जायेगा स्वस्थ रहे सुरक्षित रहे


Rate this content
Log in

More hindi story from Nandita Srivastava

Similar hindi story from Inspirational