Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

AMIT SAGAR

Abstract Inspirational

4.7  

AMIT SAGAR

Abstract Inspirational

वो माँ ही है जो...

वो माँ ही है जो...

3 mins
271


माँ एक छोटा सा प्यारा शब्द है 

जिसमें सारा संसार समाता है

इस दुनिया में हर कोई

माँ के पेट से ही आता है

हर बच्चे को पहला आहार

माँ के तन  से ही मिलता है 

माँ का ही प्यार पाकर 

बच्चा फूल की तरह खिलता है 

माँ चेतना है माँ वेदना है 

मँ देवी का अवतार है 


माँ गीता है माँ कुरान है

माँ इबादत है माँ ईमान है 

माँ सजदा है माँ श्रद्धा है

माँ ही बच्चों का प्यार है

माँ साधना शीतलता है 

माँ हर घर का संस्कार है 

वो माँ ही है जो भूखे रहकर

अपनो का पेट भरती है 

वो माँ ही है जो तन को बेचकर 

बच्चों का तन ढकती है


वो माँ ही है जो घर घर जाकर

चूल्हा चौका करती है

वो माँ ही है जो गीले में भी  

बच्चों को सूखा रखती है 

माँ नभ भी है माँ नीर भी है  

और माँ ही नयनतारा है

माँ हँसी भी है माँ खुशी भी है 

माँ जादू का पिटारा है

माँ सत्य  है माँ शिव भी है 

माँ सुन्दरता का रूप है 

माँ चाँद की चंचलता है 

माँ ही सूरज की धूप है 


वो माँ ही है जो खुद तुतलाकर

मुझसे कुछ बुलवाती थी 

वो माँ ही है जो लोरी गाकर 

काँधे पर मुझे सुलाती थी

वो माँ ही है जो शिकवे सुनकर 

मुझको आँचल में छुपाती थी

वो माँ ही है जो नजर का टीका

माथे पर मेरे लगाती थी

माँ अन्नदाता है अन्नपुर्णा है 

माँ ही भाग्यविधाता है 

माँ आशा है उम्मीद है 

माँ ही कर्मो की दाता है 

माँ सागर है माँ स्रष्टी है 

माँ ज्योति है माँ द्रष्टी है

माँ‌ ताल है माँ‌ सरगम है 


माँ दुआ है माँ‌‌ मरहम है

वो माँ ही है जिसको छोटा 

बच्चा भी याद करता है 

वो माँ ही है जिसकी हर एक

बुजुर्ग भी फरियाद करता है

वो माँ ही तो है जो सदा आगे

बढ़ने की कामना करती है 

वो माँ ही तो है जो ऊँचा 

पढ़‌ने की कामना करती है 

माँ आरजू है माँ जुनून है 

माँ चैन है माँ सुकून है 

माँ ईश्वर का वरदान है 

माँ ही मेरा अभिमान है 

माँ वैभव है माँ गौरव है 

माँ भैरवी है माँ भैरव है

माँ निरुपा है माँ रीमा है

माँ अचला  है माँ दुर्गा है 


वो माँ ही है जो दुख सहती है 

अंगारों पर चलती है

वो माँ ही है जो फूल के संग संग 

काँटों को भी चुनती है

वो माँ ही है जो रात-रात भर

राह द्वार पर तकती है

वो माँ ही है जो छुपा-छुपाकर

चिज्जी मुझको रखती है

माँ ही पेड़ की छाया है 

माँ ही कुबेर की माया है 

माँ नीरज है माँ सतलज है 

माँ ही तो मेरा साया है 

माँ नरगिस है माँ अमृत है 

माँ शारदा है सावत्री है 

माँ धरती है माँ अम्बर है 

माँ ही तो सीप का मोती है 


वो माँ ही है जिसके चरणों की 

खुदा भी पूजा करता है 

वो माँ ही है जिसको कौआ भी 

हंस के जैंसा दिखता है 

वो माँ ही है जिसने पुरुषोत्तम 

राम को जन्म दिया

वो माँ ही है जिसने चक्रधारी

क्रष्ण को जन्म दिया

माँ अलख है माँ‌ जगत है

माँ मधु है मधुकंठ है 

माँ दीक्षा है दुखहरणी है

माँ रजनी है माँ रमणिक है 

माँ ग्रीष्म काल में ठण्डक है 

माँ शीत ऋतु में गर्मी है 

माँ बसन्त ऋतु की बहार हे 

माँ बारिश की बौछार है 

अन्त में बस इतना ही कहूँगा 

एक माँ ही ऐसा रिश्ता है 

जो अनन्त काल ना घिसता है 



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract