Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

संजय कुमार

Abstract

2  

संजय कुमार

Abstract

विश्वास भी नहीं करते।

विश्वास भी नहीं करते।

1 min
108


अब वो विश्वास भी नहीं करते

पहले जैसा एहसास नहीं करते

इश्क में जब तक डूब न जाएं

दोनों दिल इस कदर

तब तक एक दिल दूसरे पर

राज नहीं करते।

कर दो बयां अपनी मोहब्बत

का इस क़दर

कहीं ये दो दिलों का राज

ही न रह जाए।

दे दो अपना दिल किसी दीवाने को

कहीं ऐसा न हो अपना दिल

अपने पास ही रह जाए।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract