Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

Shudhanshu Sharma

Fantasy Inspirational Others


4  

Shudhanshu Sharma

Fantasy Inspirational Others


तू एक छेड़ी हुई सी नज्म मेरी

तू एक छेड़ी हुई सी नज्म मेरी

1 min 20.7K 1 min 20.7K

तू एक छेड़ी हुई सी नज्म मेरी ,
मैं तुझको बांधता एक साज़ हूँ ,
तू धुन है मेरे धड़कनों की,
और मैं तेरी आवाज़ हूँ,
तू है खिलता कमल मैं पंक तेरा ,
तू मेरी रोशनी ,
मैं रंग तेरा ,
तू मेरा साथ हो ,
मैं संग तेरा ,
तू मेरी रूह हो ,
मैं अंग तेरा ,
तू एक बहती हुई सी पंक्ति मेरी ,
मैं तुझमे डूबता एक चाँद हूँ,
अब तू भी मेरे साथ है और मै भी तेरे साथ हूँ,
तू भी मेरी आवाज़ है मैं भी तेरी आवाज़ हूँ , 
तू एक छेड़ी हुई सी नज्म मेरी ||----------


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shudhanshu Sharma

Similar hindi poem from Fantasy