Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj

Tragedy


4.0  

Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj

Tragedy


तबाही का मंजर

तबाही का मंजर

1 min 418 1 min 418

तबाही का मंजर कुछ यूं पसरा है

हाहाकार चहुंओर मच रहा है

दर्द की इंतहा हो गई है

ना आया कोई अपने काम

दहशत ऐसी बैठी मन में

चाह कर भी न बचा पा रहे अपनों की जान

तबाही का मंजर कुछ यूं पसरा है।


इस अदृश्य बीमारी ने यूं पांव पसारे है

सिर्फ दिखते लाशों के ढेर सारे हैं

मन विचलित होता डर से रूह है कांप जाती

जब हर ओर से रोने की आवाज़ है आती

हर पल अपनो की चिंता है सताती 

इस खौफनाक मंजर ने कुछ इस तरह डराया है।


हर जगह एक सा प्रतीत होता है

कही दरकते दिल ,कही डूबते अस्पताल

जानवर हो या इंसान सब पर एक सा कहर छाया है

दरिया का रास्ता भी रोक दिया,

हवा में जहर घुल आया है

कुछ इस तरह तबाही का मंजर छाया है।


 बेबस इंसान हैं 

 लाचारी के हालात हैं

पर हिम्मत न हारेंगे 

हम इससे लड़ के दिखाएंगे 

अपनी सुरक्षा करते हुए ,

दूसरो की जान बचाएंगे

छह गज की दूरी और मास्क है जरूरी 

ये नियम सब मिल अपनाएंगे ।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj

Similar hindi poem from Tragedy