Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

DEVSHREE PAREEK

Abstract


4  

DEVSHREE PAREEK

Abstract


सिलसिला चलता रहे…

सिलसिला चलता रहे…

1 min 279 1 min 279


ख़्यालों के काफिले का सफ़र, कभी खत्म तो हो

मंज़िल ना सही, मगर इनका कोई रहगुज़र तो हो…

चश्म-ए-तर से जो, बहे जाते हैं अश्क

समंदर ना सही, मगर कोजा-ए-मुट्ठीभर तो हो…

रूठनें मनाने का सिलसिला, चलता रहे तमाम उम्र

रिश्ता-ए-मुकम्मल ना सही, अग़यार ही मयस्सर तो हो..

कैद-ए-हयात से, आजाद कर दे ए ‘खुदा’

नफ़स को अनफ़ास ना सही, मगर कहीं ठहर तो हो।


Rate this content
Log in

More hindi poem from DEVSHREE PAREEK

Similar hindi poem from Abstract