Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Bhavna Thaker

Abstract

3  

Bhavna Thaker

Abstract

सात फेरों का मान

सात फेरों का मान

1 min
356


चुटकी सिंदूर रचकर

मेरी मांग में सात फेरों के संग

एक रस्म ओर भी

निभाई थी हम दोनों ने !


मुझे आज भी याद है

तुमने एक भरोसे के साथ

मेरी हथेलियों पर अपना

पूरा ब्रह्मांड रख दिया था ! 


मैंने उस ब्रह्मांड को

अपनी आगोश में

भर लिया था,

आज तुम्हारे दो लफ़्ज़ों ने

कायल बना दिया की।


तुम खरी उतरी मेरे

भरोसे का मान रखकर !

ना मैं खरी नहीं उतरी

तुम्हारे अनुराग ने मुझे

हमेशा सराहा तुमने जो दिया

उसके आगे मेरी कोई विसात नहीं !


मान तो रखना ही था

अपने अज़ीज़ का 

कैसे तबाह होने देती

एक अटूट भरोसे की

डोर मेरी ऊँगलियों से बँधी है !


मैंने भी तो पाया है

तुमसे एक अनमोल सी

ज़िंदगी का तोहफ़ा ! 


खरे तो तुम उतरे हो

मेरे हर गम हर आँसू को

अपनी पलकों पर सजाकर रखा है 

सात फेरों का मान रखा है।


मैं तो बस महज़

चुटकी भर कर्ज़ चुका रही हूँ

तुम्हारी असीम उदारता का,

काश की चुका पाती

मैं भी आसमान सा भरपूर।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract