Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shelly Gupta

Romance

2  

Shelly Gupta

Romance

मुहब्बत कैसे हुई ये बोल दूँ

मुहब्बत कैसे हुई ये बोल दूँ

1 min
314


राजे दिल खोल दूँ

मुहब्बत कैसे हुई आ बोल दूँ

एक पल लगा या सदियाँ

ये राज़ आज खोल दूँ

दिल के हर कोने में तू है


आ ये सबको बोल दूँ

क्या है तू मेरे लिए

ये मैं अब सबको बता दूँ

बुत बना रखा है दिल में तेरा

आ आज सबको दिखा दूँ


पलकों में छिपा रखा है तुझे

आ अँखियाँ खोल के दिखा दूँ

आ राजे दिल खोल दूँ

मुहब्बत कैसे हुई ये बोल दूँ


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance