Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

मेरे मन के मोती

मेरे मन के मोती

1 min 408 1 min 408

यूँ बिखरने न देना तुम

मेरे मन के मोती को।

तेरी हसरतों की चाहत में

इन सहमी उम्मीदों को।


दिल पर टकराती तेरी

आंखों की कतारों को।

यूँ बिखरने न देना तुम

मेरे मन के मोती को।


मेरी ज़ुल्फ़ों में झूलती

तेरी सांसो की खुशबुओं को।

हाथों में समेटे तेरे

हर वादे की गहराई को।


यूँ बिखरने न देना तुम

मेरे मन के मोती को।

बिन कुछ कहे ही

अनकही बातों को।


मेरी हया में लिपटी

तेरी हर चाह को।

यूँ बिखरने न देना तुम

मेरे मन के मोती को।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Bhawana Raizada

Similar hindi poem from Romance