Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Kumar Kishan

Classics

4  

Kumar Kishan

Classics

मैं और मेरी तन्हाई

मैं और मेरी तन्हाई

1 min
299


एक दिन मैंने अपनी

तन्हाई से पूछा

"यह जीवन क्या है ?


प्रेम, हर्ष, सफलता को पाना

ही जीवन है, या कुछ और

है यह जीवन ?"


तन्हाई हँसकर बोली

"सुख-दुःख, हर्ष-विषाद और

प्रेम-विरह का संगम ही तो

जीवन है, और

जिस दिन मानव इसे समझेगा।


मुझे पाकर भी खुश रहेगा।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics