Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Sai Mahapatra

Inspirational Others


3  

Sai Mahapatra

Inspirational Others


मां

मां

2 mins 31 2 mins 31

मां तू कभी कहती नहीं पर सब जानता हूं

तेरे क्या है ख़ुशी के आंसू और क्या दर्द के

ये मैं पहचानता हूं

हँसते हँसते हर दर्द को सह लेती है तू मां

दिन रात काम करके भी क्यूँ

कभी थकती नहीं है तू मां

मैंने जाने अनजाने में तेरा कभी दिल दुखाया है

तो माफ़ कर देना


तू मुझसे कभी रूठ मत जाना

अब बहुत हुआ कुछ अपने बारे में बता मां

तेरी सपनों के बारे में तेरे बचपन के बारे में

मुझे अब जानना है मां

हमेशा तुने मेरी पसंदीदा खाना बनाया है 

आज एक बार मुझे तेरी पसंदीदा खाना बनाना है मां

मां तू कभी कहती नहीं पर सब जानता हूं

तेरी क्या है ख़ुशी के आँसू और

क्या दर्द के ये मैं पहचानता हूं


मां तुझे जलेबी पसंद है ना पर मुझे रसगुल्ले पसंद है 

इसलिए तू हमेशा घर को रसगुल्ले लाया करती है ना

तुझे पसंद ना होते भी मेरा दिल रखने के लिए

तू खा लेती है ना मां

अब बहुत हुआ मेरे पसंद का खाना

एक बार तेरी पसंद का खाना खाते है

रसगुल्ला फ़िर कभी आज मुझे तेरे साथ

जलेबी खाने जाना है मां


तू हमेशा रात को मेरी कमरे में मच्छर दानी रख जाती है

और रात में मेरा नींद कहीं टूट ना जाए इसलिए

तू सारी रात जगा करती है 

अब बहुत हुआ अब तू थोड़ा आराम कर

मेरे लिए अब तू रात रात जग मत तुझे अब कसम है मेरी

तू अब चैन की नींद सोया कर

मां तू कभी कहती नहीं पर सब जानता हूं

तेरी क्या है ख़ुशी के आँसू और

क्या दर्द के ये मैं पहचानता हूं

मां वादा है तुझ से अब से तेरी आँख से

एक भी आँसू बहने नहीं दूँगा

जाने या अनजाने में भी तेरा दिल कभी नहीं दुखाऊंगा


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sai Mahapatra

Similar hindi poem from Inspirational