Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

mahak gupta

Tragedy


5.0  

mahak gupta

Tragedy


माँ की तड़प

माँ की तड़प

1 min 445 1 min 445

क्या, गलती थी उसकी ?

जो निर्भया कहलायी।


कितना दर्द सहा होगा

आसिफा ने ?

जो दुनिया में

और न जी पायी।


क्या गलती थी उसकी ?

क्यों, रह गया

आँगन सुना,

और किलकारियाँ

न गूँज पायी।


मासूम की गुहार,

माँ का दर्द,

क्यों न दुनिया सुन पायी ?


आखिर, गलती क्या थी ?

जवाब-

हाँ, हाँ गलती तो थी।

वो मेरी बेटी थी।

   

और मैं,

मैं किसी और की।


Rate this content
Log in

More hindi poem from mahak gupta

Similar hindi poem from Tragedy