Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Sunil Gajjani

Abstract


2  

Sunil Gajjani

Abstract


कविता

कविता

1 min 93 1 min 93


विश्वास नहीं

पीड़ा बहुत है

ह्रदय में मेरे

तुम्हारी स्मृतियों की

निर्जल पलके देख यूँ

दोष ना दो

सुनो , फिर सागर को तुम क्या कहोगी

जिसके भीतर

कई सैलाब दफ़न हैं !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sunil Gajjani

Similar hindi poem from Abstract