Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Sunil Gajjani

Children


3  

Sunil Gajjani

Children


बच्चा और बचपन

बच्चा और बचपन

1 min 235 1 min 235

बच्चा 

अपनी उम्र से पहले 

परिपक्व हो रहा 

कल के बचपन के

बनस्पित !


बचपन 

अपना.बचपना खोता-सा 

प्रतिस्पर्धा युग में !

बच्चा 

अपने बचपन से 

पिछड़ता-सा !


बचपन 

बट गया 

महा नगर 

नगर, गाँव की 

जीवन शैली में 

बच्चा, द्वंद में 

अपने बचपन के बीच ! 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sunil Gajjani

Similar hindi poem from Children