Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Sonali Tiwari

Children Stories Classics

4.8  

Sonali Tiwari

Children Stories Classics

कुछ यादें हैं

कुछ यादें हैं

2 mins
188


 कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं

 वो पहली बार यूनिफॉर्म पहनना

वो पहली बार स्कूल के लिए निकलना


वो पहली बार क्लास में बैठना

वो पहली बार दोस्तों से रुठना

वो पहली बार का पेंसिल पकड़ना

वो पहली बार अनोखा डाइंग बनाना


वो पहली बार दोस्तों की पेंसिल उठा लाना

वो पहली बार अपना डब्बा भूल आना

ये यादें हैं, जो याद रह जाती हैं ।

कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।


वो लुका-छिपी में दूसरों के घर छुपना

वो बारिश के पानी को छत पर रोकना

वो दौड़-भाग में सिर्फ एक को सताना

वो गांव के तालाब में कागज़ की नाव तैराना


वो पड़ोसी के पेड़ों से फलों को चुराना

वो दोस्तों को नए नामों से चिढ़ाना

वो होली पर छिपकर रंग डालना

वो दिवाली पर मंदिर का सजाना


ये यादें हैं, जो याद रह जाती है।

कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।


वो मेलों में अपने पैसे बचाना

वो रो-रो कर फरमाइशें पूरी कराना

वो बीमारी के बहाने घर बैठ जाना

वो पापा की फर्जी साइनें बनाना


वो कहानियों का किताबों के बीच रख पढ़ना

वो शून्य वाला पर्चा मम्मी को मिलना

वो बारिश में जानबूझकर स्कूल जाना

वो दोस्तों के पीछे उनके बैग छुपाना

वो बार-बार टीचर्स का सज़ा देना


वो कभी-कभी क्लास में फर्स्ट आना

वो पहली बार रात जग के पढ़ना

वो परीक्षा से पहले पूजा-पाठ करना

वो पहली बार बोर्ड परीक्षा का होना


वो पहली बार रिजल्ट से डरना

ये यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।

कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।


वो पहली बार कालेज में जाना

वो पहली बार खुद एडमिशन कराना

वो दोस्तों के साथ बेवक्त कैंटीन जाना

वो ग्रूप स्टडी के नाम पर खिल्ली उड़ाना


वो दोस्तों के साथ बेबात सेल्फी लेना

वो अटेंडेंस लगाकर दोस्ती निभाना

वो पहली बार टीचर्स को दोस्त बनाना

वो भाग-भाग कर नोट्स फोटोकॉपी कराना


वो सुबह की क्लास में देर से जाना

वो छिपकर टीचर्स की मिमिक्री करना

वो फेवरेट टीचर का इंतजार करना 

वो डेडलाइन पर असाइनमेंट सबमिट करना


वो टाइम-टेबल आने पर पढ़ने की सोचना

वो प्रश्नपत्र देखकर बनाने वालों को कोसना

ये यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।

कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।


अभिभावकों, शिक्षकों और दोस्तों के साथ

कुछ खूबसूरत पल, जो गुज़र जाते हैं

बदल जाता है वक्त, बीत जाते हैं लम्हें

वो यादें हैं, जो तब रुलाती थी अब हंसाती हैं

ये यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।


कुछ यादें हैं, जो याद रह जाती हैं।

याद रह जाती है


Rate this content
Log in