Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

archana nema

Abstract

2.5  

archana nema

Abstract

मेघ

मेघ

1 min
372


तुम्हारे होठों पर बसा सांत्वना भरा स्पर्श,

तरसता यह अनछुआ मन;

बरसने को आतुर स्नेह,

दौड़ के भीग जाने को तरसता नेह;


कब आओगे बादल ? बरसने;

भिगोने मुझे नख शिख तक;

जिस मे धुल जाए मेरे सर्वत्र अवगुण,

और मैं ! उस बाढ़ में आप्लावित,

खुश, प्रसन्न, अपना सर्वस्व खो कर !


कच्ची फाँक सी खट्टी में,

जेठ की मिठास से उतरते मुझमे तुम !

रसवंती मेघ से तुम;

बरसते मुझ में।


मैं भीगती पोर-पोर,

रोम-रोम अंदर तक

तुम घनघोर पहुंच जाते,

मेरी अंतहीन रुक्षता की

हर सीमा तक।


तुम्हारे होठों के अंतिम किनारे तक

खिलखिलाती हँसी;

चहकती मेरे अंतस पर

किसी चिड़िया सी।


तुम्हारा खड़ा होना,

मेरे मन की चौखट पर

और मेरे इंतजार का बिखरना,

तुम्हारे पैरों के नीचे एक घर बनकर।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract