Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.
Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.

Rashmi Jain

Abstract


3  

Rashmi Jain

Abstract


ज़िंदा है तू!

ज़िंदा है तू!

1 min 468 1 min 468

ये दुनिया सुख दुख का मेला है 

इस मेले में तू क्यों अकेला है 

ग़म को ना समझ बोझ 

यह तो खुशी महसूस कराने का बस एक तरीका है 

तो चल उठा अपने क़दम 

अकेले ही सही 

दूर करले अपने सारे भरम 

इस वीरान बस्ती में 

अपनी हस्ती खोजते चल रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

खुशी का एक बहाना लिए मस्ती में चल रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

 

अमावस की रात में 

दिल में दबी ख्वाहिशों को 

जुगनुओं सा जलने दे 

अपनी जुनून की चिंगारियों को 

थोड़ा और भड़कने दे 

इस काली रात के सन्नाटे में 

तकिये  तले सपने लिए सो रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

खुली आँखों से सपने बुन रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

 

चेहरे पर यह शिकन कैसी 

अधरों पर यह दबी मुस्कान कैसी 

पल दो पल की है यह ज़िंदगी 

उलझा ना इस परिंदे को 

सवालों और जवाबों के जाल में 

सवालों के जवाब तो मिल जाएंगे राह चलते चलते 

जवाबों के सवाल ना ढूंढ 

ज़िंदगी के इस अनदेखे अनजाने सफ़र में 

मंज़िल से ज्यादा राहों से मोहब्बत कर चला है 

तो ज़िंदा है तू 

अपने कदमों के निशां पीछे छोड़ चला है 

तो ज़िंदा है तू 

 

रगों में जुनून 

सांसों में थोड़ा सा सुकून 

यहां जीने के लिए 

थोड़ा पागलपन भी जरूरी है 

बाँहें खोले समेट ले इन हसीन लम्हों को 

क्योंकि 

ये धड़कनों की रवानी कल ना होगी 

ये सांसो की हलचल कल ना होगी 

वक्त के फिराक में 

कहीं वक्त को ही ना खो दे 

इस भागती दौड़ती ज़िंदगी में 

हर घड़ी दो घड़ी ख़ुद से खुलकर मिल रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

इन खूबसूरत लम्हों को जी भर जी रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

 

किस बात की है जल्दी 

आज फिर जी ले बचपन की वह सादगी 

पता नहीं कब ये सांसे साथ छोड़ दे 

मौत कब दुल्हन बन आंगन में आ बैठे 

पर सांसों के बंद होने से भला कौन मरता है यहां 

मौत तो उसी दिन आती है 

जीते जी जीने का ज़ज्बा मर जाए जब जहां 

तो चल एक बार फिर जीवन के ताल से ताल मिला ले 

ज़िंदगी के इस संगीत में 

सांसों के तारों से सरगम छेड़ रहा है 

तो ज़िंदा है तू 

ज़िंदादिली से जीवन का यह अलौकिक गीत गुनगुना रहा है 

तो ज़िंदा है तू


Rate this content
Log in

More hindi poem from Rashmi Jain

Similar hindi poem from Abstract