Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shyam Kunvar Bharti

Classics

2  

Shyam Kunvar Bharti

Classics

हिन्दी गीत - जन्म लिए कन्हाई |

हिन्दी गीत - जन्म लिए कन्हाई |

2 mins
304


कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई आपको


हिन्दी गीत - जन्म लिए कन्हाई |


रही काली काली रात अंधियारी |

जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |

उमड़ घुमड़ खूब बादल गरजे चमक चमक चम बिजली चमके |

आए गोद कान्हा देवकी माई |

जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


करने कंस कसाई मामा मर्दन |

आठवीं पुत्र दिये बासुदेव दर्सन |

काली रात घनेरी बढ़ी आई |जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


बचाने कोप कंस अपने ललना |

चले बासुदेव रख माथे पलना |

जल यमुना गले बढ़ आई |जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


बन छतरी नाग बालक बरखा बचावे |

कान्हा छुई चरण यमुना जल घटावे |

छोड़ लाल अपना यसोदा कन्या उठाई |जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


होत भोर बाजे नन्द घर बजना |

जन्म लिए श्याम सुंदर ललना |

नाचे ग्वाल बाल गोकुला गाई |

जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


पापी मामा कंस दुराचारी मारा |

भय भूख दुख सब जन तारा |

संग राधा गोपियाँ रास रचाई |

जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


रचा महाभारत ले धनुधारी बीरा |

किया नास पापी अधर्मी धरी धीरा |

धर्म अधर्म पांडव कौरव हुई लड़ाई |जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


माथे मोर मुकुट मुख मुरली साजे |

अंग पीतांबर नित्य मनमोहिनी बाजे |

हरो हर पीड़ा किशन कन्हाई |जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |


खिले बृंदावन हर कली कली |

छाए बहार तेरी नजर जिधर चली |

करो कृपा हे श्री बाँके बिहारी |

जेलखाना जब जन्म लिए कन्हाई |



|



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics