Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Mr Kaushal N Jadav

Classics Fantasy Romance

5.0  

Mr Kaushal N Jadav

Classics Fantasy Romance

गुस्ताखी ग़ज़ल लिख़ने की

गुस्ताखी ग़ज़ल लिख़ने की

1 min
183


क्या सुनाया मेरी जिंदगी का अफसाना

मैं खुद अपनी मौत की गवाही बन गया


गुस्ताखी क्या हुई इक ग़ज़ल लिखने की

और मैं खुद कलम की स्याही बन गया


मुजे थी तिश्नगी बस इक मुलाकात की

पर वो आब-ए-चश्म बनकर बह गया


अंदाजा लगाने निकला था में उन अब्सारो का

पर वोह आंखों की नमीं बनकर बह गया


कैसे बयान करूं में नग्मा उन निगाहों का

पर मैं खुद इक दास्तान बनकर रह गया


ताज़ा हुई यादें मोह्ब्बत की उस गुलबदन से

मुस्कुरा दिया हमने और बस बेकस बनकर रह गया


तराने मेरे सुनके एक शायर ने क्या ख़ूब फरमाया

क्यों बेक़रार बनके बेवक्त तूने खुद को ही दफनाया


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics