Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Dinesh Dubey

Abstract

4  

Dinesh Dubey

Abstract

गुलाब

गुलाब

1 min
265


मत छेड़ो उस गुलाब को ,

कांटो से भरा रहता है वो,

गुल से भरा रहता गुलाब ,

कांटो में बना है सरताज।


फूलों का राजा कहलाता है ,

बिन उसके ना प्रेम हो पाता है,

हर जगह है उसका बोलबाला,

जन्म से लेकर मृत्यु चढ़ता है ।


हर शख्स को है ये भाता,

नया सबक भी सिखलाता,

प्यार से जो ना छुए उसको,

कांटो से दंड दिलवाता ,।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract