Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

My poem : My life

Inspirational


1  

My poem : My life

Inspirational


एक सीख

एक सीख

1 min 11 1 min 11

 ठोकरें खा जीरो कोई शिकायत नहीं।

 रास्ते में ही रुक गए तो शर्म की बात है।।

संघर्ष में असफल हुए तो कोई शिकायत नहीं ।

संघर्ष के आगे झुक गए तो शर्म की बात है ।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from My poem : My life

Similar hindi poem from Inspirational