Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Nirupama Mishra

Abstract


4.5  

Nirupama Mishra

Abstract


अंधेरे..कितने चेहरे

अंधेरे..कितने चेहरे

1 min 272 1 min 272

खोल दी है मैंने

अपने और कई घरों के बंद दरवाज़ों

की सांंकल आहिस्ते से

ये सोचकर कि रोशनी का साथ जरूरी है,


बहुत अंधेरा होता है 

इस अंंधकार मेेंं पता नही चलता

कितने चेेेहरे हैं, किसके चेहरे हैं

ऐसे में घर की चौखट से निकलो 

तो रास्तोंं पर भी अंधेरा ही 

मिल जाता,


मिल जाते हैं अंधेरे में

अनगिनत पैर

नही दिखते जिनके चेेेहरे मगर,


कुछ पैर चलते- भागते

कुछ पैर डगमगाते

जो कि लगते करीब आते

अपनी ही तरफ,


ऐसा एहसास होता अचानक

जैसे कई विषधर चले आ रहे हों

उन पैैरोंं की जगह,


कई दूूूसरे पैैर उन पैरों को 

देख उनकी परवाह नही करते

और बेेफिक्र अपनी राह चले जाते,


और कई पैर तो चुपके से

अपने -आप को महफूज़ रखने के लिए

इधर-उधर जगह तलाशते

लेकिन कोई मेरे डरे -सहमे पैरों के साथ

नही चलता,


शायद घर से ही अंधेरा साथ चल 

रहा होता है इसलिए

ये अनगिनत पैर किसके हैं

नही पहचाने जाते ,


तभी तो आज मैंने घर से निकलते ही

अपने ही नही बल्कि कई घरों की

खोल दी है सांंकल

जिससे रोशनी साथ ही चले घर से

पहचान सकूँ पैरों से लिपटे 

हुए चेहरों की असलियत


और मैं लौटकर आ सकूूँ

अपने घर को सकुशल

बचते हुए अंंधेरों से।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Nirupama Mishra

Similar hindi poem from Abstract