Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

VEENU AHUJA

Tragedy


4.5  

VEENU AHUJA

Tragedy


आत्म हत्या - क्यों

आत्म हत्या - क्यों

1 min 26 1 min 26


कसका होगा उसका मन ' कई कई बार

दरका हो गा ' उसका जिगर भी कई कई बार

यूँ ही नहीं कोई करता आत्महत्या का विचार ।

बच्चो की तोतली बातें, भूख से कुम्हलाई आंते '

दुल्हन की वो सूनी प्रश्न पूछती आंखें .

रोटी को तरसती मुन्ना की खुली बाहें '

मांकी खांसती थकी, सांसे '

हताशा में डुबोती होगी, उसको

फूट फूट कर रुलाती होगी उस को

कहाँ जाए . किधर जाए, प्रश्न डराते होगे उसको,

ये एहसास बार बार आया होगा

जिजीविषा हारी होगी ' आत्महत्या का विचार तभी आया होगा। ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from VEENU AHUJA

Similar hindi poem from Tragedy