संजय कुमार गौतम

Abstract


4.5  

संजय कुमार गौतम

Abstract


उजड़ता गांव एकता की आवाज।

उजड़ता गांव एकता की आवाज।

7 mins 163 7 mins 163

एक गांव था वहां सभी प्रकार के लोग रहते थे। गरीब,अमीर कृषक, मजदूर, किसान सभी लोग आपस में मिल जुल कर रहते थे। एक दूसरे की मदद करते। लेकिन एक समय ऐसा आया कि थोड़ी थोड़ी बात तु तु मैं मैं में सभी एक दूसरे से इतने खफा हो गए की वो एक दूसरे का दुश्मन बन गए । उसी गांव में एक धनी सेठ रहने के लिए जमीन लेता है और घर बना कर रहने लगता है। कुछ दिन बीत जाने के बाद धीरे धीरे गांव में अपनी धाक और लोगों को अपना गुलाम बनाने का प्रयास करता है। धीरे धीरे उसने गांव के सभी लोगों को अपने गुलाम की जंजीरों में जकड़ भी लिया। कुछ समय बीतता है कि उस धनी सेठ के बच्चों का जन्म होता है। धीरे धीरे धनी सेठ के बच्चे बड़े होते हैं। अब धनी सेठ पैसे वाला और ऊपर से गांव के लोगों पर राज करने वाला। चलो देखते हैं राजा के लड़कों की करतूत। गांव ख़ूब खुशहाल था लोग अपने अपने काम में व्यस्त रहते। गांव के लड़का लड़कियां स्कूल, कॉलेज जाती। लेकिन गांव के लोगों में यही कमी थी कि वो एक दूसरे का साथ नहीं देते। एक समय ऐसा आया कि धनी सेठ के लड़के बड़े हो जाते हैं और गांव में अत्याचार मचाना शुरू कर देते हैं।

जो मर्जी आए वही गांव में करते रहते है। पूरे दिन गांव की गलियों में मोटरसाइकिल घुमाते रहते है। किसी को मारना पीटना तो आम हो गया। सबसे बड़ी समस्या तो यह है कि लोग कुछ बोलते ही नहीं एक को मारते तो दूसरा देखता रहता। ऐसा होते करते होते करते धनी सेठ के बच्चों के भाव इतने ऊंचे हो गए की वे तो गांव की बहन बेटियों पर भी काली नजर डालने लगे।एक दिन ऐसा होता जब सरयू की बेटी दिशा गांव के रास्ते से गुजरती तो उसे देखकर अनाप शनाप के शब्द बोलते हैं। ऐसा ही काफी दिन तक चलता रहता है । धनी सेठ के लड़के आते और गांव की लड़कियों को छेड़ते और चले जाते । एक दिन सरयू की बेटी दिशा अकेली जाती हुई देख धनी के लड़के उसे छेड़ते हैं।

जब सरयू की बेटी दिशा घर आकर धनी के लड़कों की पूरी कहानी पिता को सुनाती है। सरयू बड़ा दुःखी होकर धनी सेठ से इसके बारे में बताता है लेकिन धनी सेठ सरयू को डाट फटकार कर भगा देता है। सरयू गांव के लोगों से इसके बारे में बताता है। लेकिन कोई इस लिए नहीं सुनता की ये उनके ऊपर नहीं बीती। वो तो कहते हैं की ये तुम्हारा मामला है तुम्ही निपटान करो इसका हमारे साथ नहीं हुआ। कोई नहीं आज नहीं तो कल अगर तूफ़ान आया है तो झोके में तो सभी आएंगे। ऐसा देख सरयू ने अपनी बेटी को बाहर भेजना बंद कर दिया। काफी दिन बीत जाते है ऐसे में सरयू की लड़की बाहर न निकल देख धनी के बेटे सरयू को मारने की योजना बनाते हैं। इसी तरह एक दिन जब सरयू दूसरे गांव जाता है। तो धनी के सेठ सरयू को रास्ते में ख़ूब मारते हैं। सरयू बेचारा किसी तरह घर आता है। और गांव वालों से मदद के लिए कहता है। लेकिन गांव का एक भी आदमी सरयू की मदद नहीं करता। अरे गांव वालो अब तो मदद करो एक दूसरे की कब तक जुल्म सहते रहोगे इस धनी सेठ की।

हद तो तब हो जाती है जब धनी सेठ के लड़के आधी रात सरयू के घर जाकर सरयू की लड़की के साथ दरिंदो वाली हरकतें करते और उसे जान से मार डालते हैं। सुबह हुई पूरे गांव में चारों तरफ हाहा कार मच गया। पुलिस आई थाना रिपोर्ट हुआ धनी सेठ के बच्चों को पुलिस ले गई। इतनी बड़ी दुर्घटना घटने के बाद कुछ दिन तक तो गांव में शांति रही। लेकिन थोड़े दिन बाद धनी सेठ के बच्चे तो बाहर घूमते नजर आए। ऐसा क्या हुआ जो धनी सेठ के बच्चे बाहर घूम रहे हैं। क्या पुलिस ने इन्हे छोड़ दिया। सरयू बेचारा दुख का मारा वो ये शहर ही छोड़कर कर चला जाता है। धनी सेठ के लड़के फिर वही अत्याचार शुरू कर देते हैं। लेकिन अबकि किसी सरयू गरीब की बेटी नहीं रामू अमीर की बेटी को नजर में बिठाया है। इसी तरह एक दिन रामू की बेटी एक दिन स्कूल जाती रहती है। तो उसे छेड़ते हैं। और ये रामू कौन है।

अरे ये रामू तो धनी सेठ का मुंशी है। क्या ये अपनी बेटी को बचा पाएगा। अब तो रामू की बेटी के तो ये दरिंदे रास्ते लगने लगे। स्कूल आते समय छेड़े और जाते समय छेड़े। लेकिन रामू की बेटी ये सब अपने पिता से क्यों नहीं बता रही। क्योंकि इसको डर है। की उसके पिता कुछ नहीं कर सकते । और दूसरा कहीं ऐसा न हो कहीं सरयू जैसी कहानी बन जाए। होते करते होते करते काफी दिन ऐसे ही रास्ते लगते रहते। लेकिन हद तो तब हो गई जब उसके साथ छेड़ खानी की और उसकी सायकिल को तोड़ डाला।

रामू की लड़की रोते हुए घर आपस आती है। गांव के सभी लोग देख बड़े चिंता में डूब जाते हैं। की आखिर गांव में हो क्या रहा है। क्या अब हमारी बहन,बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। रामू की लड़की घर पहुंचती है। रामू शाम को धनी सेठ की गुलामी कर अपने घर आकर अपनी बेटी की हालत देख हैरान हो जाता है। इस घटी दुर्घटना के बारे में पूछता है। अपनी बेटी से पूरी कहानी सुनने के बाद। रामू एक मरी लहाश सा हो जाता है। सुबह जब होती है। रामू धनी सेठ के घर जाकर धनी सेठ से उसके लड़कों की काली करतूत के बारे में बताता है। रामू तो धनी सेठ का मुंशी है। क्या पता उसको न्याय मिल जाए। लेकिन मुंशी के सारी कहानी सुनाने के बाद रामू मुंशी को धनी सेठ लात मार कर भगा देता है। मुंशी रोता हुआ घर आता है और रात में ही सारी तैयारी कर सुबह होते ही अपनी बेटी को दूर किसी दूसरे शहर भेज देता है। इस तरह धीरे धीरे धनी सेठ के बच्चे सभी को एक एक कर के प्रताड़ित करने लगते हैं। इससे परेशान लोग अपनी अपनी बहन, बेटियों को दूर दूसरे शहर भेज देते हैं।

और तो और इस धनी सेठ के परिवार से लेग इतना परेशान हो गए की लोगों ने लड़की को जन्म देना ही बंद कर दिया। अब करें भी तो क्या गांव के लोगों में एकता भी तो नहीं। और अकेला कोई धनी सेठ से लड़ सकता नहीं। ऐसे में कौन अपनी बहन बेटियों की इज्जत इन दरिंदो के हवाले करेगा। एक दूसरे की मदद न करने के कारण अब ये गांव खंडर सा हो गया। गांव में एक भी लड़की नहीं। ये गांव में हो क्या रहा है। अगर लड़की नहीं होंगी तो वंश कैसे बढ़ेगा। परिवार कैसे बढ़ेगा समाज की स्थापना कैसे होगी इसका समाधान कैसे किया जा सकता है। फिर एक कदम। काफी दिन बीत गए अब रामू की लड़की की शिक्षा दीक्षा पूर्ण हो जाती है। अब रामू को अपनी बेटी कि शादी करनी है। रामू ने अपनी लड़की के लिए लड़का देखा। अब भाई लड़का वाले रामू के घर आते हैं। रामू,धनी सेठ के परिवार के डर से अपनी बेटी को केवल एक ही दिन के लिए बुलाता है। वो भी लड़का को दिखाने के लिए। लड़का वाले रामू के घर आए। रामू के घर पर चाय पानी हुआ । लड़के के दोस्त के मन में गांव घूमने का विचार हुआ। कोई नहीं एक बार तो बनता ही है। दोनो गांव घूमने निकल पड़े। पूरा गांव घूम लिया पूरे गांव में केवल लड़के ही लड़के। दोनो घूम के आए। अब वो दोनो तो सोच में पड़ गए। आखिर मन नहीं माना रामू से पूछ ही लिया। रामू शुरू से अंत तक की कहानी लड़कों को सुनाता है। लड़के वाले अरे ये तो बहुत ही गलत बात है। लड़का अपने पिता जी से बताता है।उसके पिता पूरी बात सुन बड़े अचंभित हो जाते है 

वो सब रामू से बात करते हैं और कहते हैं। सब सही हो जाएगा। लेकिन मुझे कुछ दिन यहां रहने की इजाजत मिले तो। रामू उनको रहने के लिए आमंत्रित करता है। अब वो लोग वही रह कर पूरे गांव की जांच पड़ताल करते हैं। सभी को एकत्रित करते हैं। और सभी को एक साथ रहकर रहने को कहते हैं। अब सभी लोगों ने अपनी हालत देख अपनी अपनी पुरानी दुश्मनी भूल कर एक दूसरे का साथ देने का वादा, ऐलान करते हैं। अब से सभी लोग आपस में मिल जुल कर रहने लगे । लेकिन अब क्या होगा। चलो देखते हैं। पूरी रणनीति बन जाने के बाद में निर्णय लिया गया कि अब अपनी हमारी बहन, बेटियां हमारे घर पर ही रहेंगी। अब आपस में मिल जाने से गांव वालों में ताकत आ गई। अब से जब कभी धनी सेठ का परिवार आत्याचर करता गांव वाले दौड़ा दौड़ा के मारते । अब धनी सेठ की सत्ता शक्ति सब खत्म हो गई और सब दब कर एक साथ इंसानियत का जीवन जीने लगे। अब कोई किसी का गुलाम नहीं। सब स्वतंत्र है। धनी सेठ ने भी अपने दरिंदे बेटों को शहर भेज दिया पढ़ाई करने के लिए। अब गांव पहले जैसा हंसता खेलता जैसा हो गया। एकता ही शक्ति है।


Rate this content
Log in

More hindi story from संजय कुमार गौतम

Similar hindi story from Abstract