Ashish Kumar Trivedi

Inspirational


3  

Ashish Kumar Trivedi

Inspirational


मेरी मम्मी सुपर हीरो

मेरी मम्मी सुपर हीरो

3 mins 95 3 mins 95

नमित अपनी पत्नी अनीता के फोन की राह देख रहा था। पिछले कई दिनों से वह अपने घर नहीं आ पाई थी। बस फोन पर ही बात होती थी। घंटी बजते ही नमित ने फोन उठा लिया। "अनीता कैसी हो ?

हमारी चिंता मत करोटेक केयर ऑफ योर सेल्फ" पाँच साल का विहान सब सुन रहा था। पर आज वो अपनी मम्मी से बात करने के लिए उतावला नहीं था। बल्कि चुपचाप खड़ा था। नमित ने बात करते हुए कहा, "विहान ठीक हैहाँ बात कराता हूँ" नमित विहान की तरफ घूमा। पर विहान फोन लेने की बजाय भाग कर अपने कमरे में चला गया। दरवाज़ा अंदर से बंद कर लिया। विहान की इस हरकत पर नमित हैरान था। समझ नहीं पा रहा था कि अनीता से क्या कहे। उसने बहाना बनाया। "वो विहान वॉशरूम में हैनो ही इज़ फाइनजब तुम खाली होगी तो बात करा दूँगा" नमित ने फोन रख दिया।

उसने विहान के कमरे के दरवाज़े पर जाकर आवाज़ दी। "विहान दरवाज़ा खोलोये क्या तरीका है मम्मी से बात क्यों नहीं की ?" विहान अंदर से बोला, "मुझे किसी से बात नहीं करनी है।" "क्यों ?" "मैं गुस्सा हूँ" नमित ने समझाते हुए कहा, "अच्छा दरवाज़ा खोलो फिर बात करते हैं।" विहान ने दरवाज़ा खोल दिया। नमित अंदर गया। विहान के पास बैठकर बोला, "तुम्हें पता है ना कि मम्मी कितनी बिज़ी रहती है। बड़ी मुश्किल से फोन कर पाती है। तुमने बात भी नहीं की।" "मैं मम्मी से गुस्सा हूँ।" "मम्मी से क्यों गुस्सा हो तुम ?" विहान मुंह फुलाए था। नमित ने फिर अपना सवाल दोहराया। 

"मम्मी इतने दिनों से हॉस्पिटल में ही रहती हैं। घर भी नहीं आती हैं। आजकल सब लोग घर पर रहते हैं। आप भी ऑफिस नहीं जाते। तो मम्मी छुट्टी लेकर क्यों नहीं आ रही हैं ?" "मम्मी को छुट्टी नहीं मिल रही है।" "क्यों नहीं मिल रही है ?" नमित ने विहान को गोद में बैठाकर समझाया। "बेटा तुम टीवी पर देख रहे हो आजकल कोरोना वायरस से लोग बीमार पड़ रहे हैं। मम्मी डॉक्टर है। उनका इलाज करती है।"

विहान को बात कुछ समझ आ गई थी। नमित ने आगे समझाया। "तुम अपने सुपरहीरो की फिल्म देखते हो। जब शैतान दुनिया पर अटैक करता है तो वो क्या करता है ?" विहान ने जवाब दिया, "वो शैतान से लड़ता है।"

"लेकिन अगर वो लड़ने की जगह छुट्टी पर चला जाए तो ?" "फिर तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी। शैतान दुनिया को खत्म कर देगा।" नमित ने विहान की पीठ थपथपाई। "सही कहा वैसे ही मम्मी और उनके जैसे डॉक्टर, नर्स, पुलिस और बहुत से लोग सुपरहीरो की तरह कोरोना शैतान से लड़ रहे हैं।" विहान की आँखें चमक उठीं। "मम्मी सुपरहीरो है।" "हाँ वो सब जो कोरोना से लड़ रहे हैं।" विहान कुछ सोंच कर बोला,

"तो बाकी लोग क्यों नहीं लड़ रहे हैं। वो घर पर क्यों रहते हैं ?" नमित ने तारीफ करते हुए कहा, "गुड तुमने अच्छा सवाल किया। बेटा बाकी सब भी लड़ रहे हैं। पर उन्हें घर पर रह कर लड़ाई लड़नी है। उन्हें अपने आप को कोरोना से बचाना है।" विहान बोला, "मैं समझ गया पापा। हम घर पर रहेंगे। अपने हाथ ठीक से धोएंगे। बाहर नहीं निकलेंगे। मैंने टीवी पर देखा था।" विहान समझ गया था। नमित को इस बात की तसल्ली थी।


Rate this content
Log in

More hindi story from Ashish Kumar Trivedi

Similar hindi story from Inspirational