Poonam Jha

Inspirational


4.4  

Poonam Jha

Inspirational


खुशी के आंसू

खुशी के आंसू

1 min 165 1 min 165

दरवाजे की घंटी की आवाज सुनकर रोमा--"कान्ता ( कामवाली ) जरा देखना कौन आया है।"

कान्ता थरथराते हुए--"बीबी जी पुलिससssss ।"

कान्ता की आवाज सुनकर रोमा भागती हुई आयी और देखकर ठिठकर खड़ी रह गयी ।रोमा के मन में कई उथल-पुथल होने लगा ।

ससुराल में सास ननद जेठानी सभी के ताने कानों में गूंजने लगी ।--"बेटी ही तो है और ऐसा प्यार लुटाती है जैसे बेटा हो । कभी-कभी ये भी मजाक कर ही लेते थे ।"

"मम्मा !!! यूँ ही देखती रहोगी ? क्या मुझे लगे नहीं लगाओगी ?"--काव्या रोमा के गले से लिपटती हुई --"ओ ! मेरी मम्मा !!!!!"

रोमा कुछ कह नहीं पा रही थी बस बेटी काव्या को इस वर्दी में पहली बार देखकर खुशी से आँखों से आंसू बहते जा रहे थे।


Rate this content
Log in

More hindi story from Poonam Jha

Similar hindi story from Inspirational