Prem Bajaj

Romance


4  

Prem Bajaj

Romance


हमसफ़र बने अनजान सफ़र के राही

हमसफ़र बने अनजान सफ़र के राही

6 mins 219 6 mins 219

" एक्सक्यूज़ मी,"

"जीईई कहिए !"

"क्या मैं यहां बैठ सकता हूं ?"

आक्षी इधर - उधर देखने लगी तो , राहुल बोला .... "जी बस में कोई सीट खाली नहीं है ।"

"इट्स ओके, बैठ जाईए ।"

राहुल आक्षी के साथ बैठ जाता है ।लगभग आधे घंटे बाद बस अपने गंतव्य पर ( अम्बाला ) पहुंच जाती है और आक्षी बस से उतर कर टैक्सी बुलाती है , और उसमें बैठकर रेलवे स्टेशन जाती है ।वहां पहुंचते ही पता चला कि जम्मु जाने वाली ट्रेन प्लेटफार्म पर आ चुकी है , और वो ट्रेन में चढ़ जाती है ।

लेकिन जैसे ही ट्रेन के डिब्बे में एंटर किया तो सामने राहुल नज़र आया जो अभी अभी अपना सामान रख रहा था ।

राहुल भी उसे देख अचंभित होकर ...... "अरे मैम आप ?"

आक्षी चौंक कर," आप भी ?"

"जीईईईई , शायद हम लोग एक जगह जा रहे हैं ।"

आक्षी बस मुस्करा कर चुप हो जाती है , उसे लगता है किसी अजनबी से इतना खुलना अच्छा नहीं । ।रास्ता लम्बा है 6-7 घण्टे का , तो थोड़ी - बहुत तो बातचीत चलती रहती है रास्ते में ।लेकिन आक्षी अपने बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताती ।राहुल बताता है कि उसने एम.बी.ए. किया है और पूना में अच्छी कम्पनी में नौकरी करता है । उसका घर यमुनानगर में है माता-पिता वहीं रहते हैं ।आक्षी कुरूक्षेत्र से है ,और एम.फिल का लास्ट सेमेस्टर है , बस इससे अधिक कुछ नहीं बताती ।

गाड़ी जब जम्मु पहुंचती है दोनों एक दूसरे को बाय करके अपने - अपने रास्ते चले जाते हैं । लेकिन आक्षी के मन में कुछ अजीब सी हलचल है ।

ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ , आज मुझे ऐसा क्यों लग रहा है जैसे कुछ खो गया मेरा ।आक्षी के चचेरे भाई की शादी है , जो जम्मु रहते हैं , सब परिवार तीन दिन पहले ही जम्मु आ गया था , आक्षी के पेपर चल रहे थे इसलिए वो शादी से एक दिन पहले ही आई है ।अगले दिन शादी है सब हल्ला- गुल्ला कर रहे हैं , लेकिन आक्षी का मन नही लग रहा , उसे उस मुसाफिर साथी की रह - रह कर याद सता रही है , और खुद पर गुस्सा भी आ रहा है कि जब वो बात करना चाहता था , क्यो नही उससे अच्छे से बात की , उसका फोन नम्बर ही ले लेती या अपना दे देती , कम से कम बात तो हो जाती ।बारात चलने लगी सब नाचते - झूमते जा रहे हैं ।जेसे ही बारात होटल में पहुंचती है , तो स्वागत में सामने राहुल खड़ा नज़र आया ।आक्षी की मानो मुराद पूरी हो गई ।राहुल को देख कर लगा जैसे कोई खज़ाना मिल गया हो , और दिल ने चाहा कि दौड़कर राहुल को गले लगा ले , लेकिन दुनियादारी , लोकलाज ,तो स्त्री का गहना है , पांव वहीं थम के रह गए ।दिल के हाथों मजबूर , दूनियां की बंदिशों में बंधी , चुपचाप बारात के साथ अन्दर प्रवेश किया , हर समय रह- रह कर नजरें राहुल को ढुंढती रहती , लेकिन राहुल अपने काम में मस्त ,लड़की वाले जो ठहरे , बारातियों की खातिरदारी में कोई कमी ना रह जाए ।

बड़े अच्छे से सब रिति- रिवाज़ पूरे हुए , विदाई का समय आया , सब दुल्हन से मिल रहे हैं और बारातियों से कुछ कमी रही हो तो क्षमा मांग रहे हैं । उन्हें अश्रुपात करते देख आक्षी की भी आंखें नम हो गई ।राहुल भी खड़ा है उनके साथ , अचानक वो आक्षी के पास आता है ......

"आक्षी जी , कोई भूल- चूक हो तो क्षमा किजिएगा , और आप की सुन्दर आंखें भीगी हुई अच्छी नहीं लगती ।"

कहते हुए एक पेपर टिशु आक्षी की ओर बढ़ाता है , आक्षी भी उसे ले लेती है , लेकिन जैसे ही आक्षी टिशु को खोलती है तो क्या देखती है उस पर फोन नं लिखा है ,और वो राहुल की तरफ देखती है , राहुल निगाहों से ही बात करने को कहता है , और आक्षी सबसे नज़रें चुरा कर हामी भर देती है ।

कोई देख ना ले , जल्दी से टिशु को पर्स में रख लिया , मन प्रफुल्लित हो उठा , शायद यही चाहती थी , कुछ मालूम नहीं ये दिल क्या चाह रहा था , लेकिन ये सब अच्छा लग रहा था ।इशारों-इशारों में दोनों एक-दूसरे को बाॅय करते हैं ।

आक्षी चाचा के घर वापिस आकर एक दिन रहकर उसके बाद परिवार के साथ ही कुरूक्षेत्र घर वापिस आ जाते हैं सब , लेकिन मन में अजीब सी कशमकश है कि राहुल को फोन करें या नहीं ।

दिल कहता बात करो अभी के अभी , और दिमाग कहता ना जाने कैसा हो , किसी को पता चल गया तो क्या होगा ।इसी कशमकश में दो दिन बहुत मुश्किल से निकलते हैं , तीसरे दिन राहुल को फोन मिलाया ।उधर से फोन उठाते ही राहुल बोला ....."हैलो , आक्षी जी ।"

"आप कैसे जान गए कि फोन मैंने किया , कोई और भी तो हो सकता था ।"

"मेरा दिल कह रहा था आप फोन ज़रूर करेंगी , दो दिन से हर पल आपके ही फोन का इंतजार कर रहा था ।"

इस तरह से दोनों का रोज़मर्रा का काम था ,जब तक बात ना कर लेते नींद ना आती , एक बैचैनी महसूस होती। ।धीरे-धीरे ना जाने कब ये दोस्ती इतनी गहरी हो गई कि दोनों को एक दिन भी बात किए बिना अच्छा ना लगता ।इधर आक्षी की पढ़ाई भी पूरी हो चुकी थी , मां- पापा रिश्ते देखने में जुट गए ,लेकिन आक्षी को ये सब अच्छा ना लगता , किसी और से रिश्ता जुड़ने के नाम से ही घबराहट होती ।उसने अब तो सोच ही लिया था कि राहुल से कह देगी कि उसके बिना नहीं जी सकती , फिर मन में ख्याल आता कि ना मालूम राहुल के दिल में भी उसके लिए कुछ है भी या नहीं , राहुल ने कभी इस तरह से कुछ कहा भी नहीं , बस हमेशा उन दोनों में नार्मल जाॅब पर, कभी साहित्य पर , कभी राजनीति पर या कभी किसी रेसिपि पर बात होती थी ।

अकेला रहने की वजह से राहुल नई-नई डिशेज़ की रेसिपि आक्षी से पूछता और बनाता था ।राहुल भी आक्षी को चाहता था , लेकिन वो कह नहीं पा रहा था , उसे लगता था कि ना मालूम आक्षी को कैसा लगे !

आखिर एक दिन पापा ने बताया कि उन्हें एक लड़का पसंद आया है और कल वो आक्षी से मिलने आ रहे हैं , आक्षी को सुनकर अच्छा नहीं लगा ‌। आखिरकार उसने राहुल को फोन किया ।

"राहुल , कल मुझे लड़केवाले देखने आ रहे हैं ।"

राहुल हंसते हुए ....."ओहो , मतलब तुम्हारी शादी होने वाली है , फिर तो तुम मुझे भुल जाओगी , बात भी नहीं करोगी , बस हर पल अपने उन के ख़्यालो में कोई रहोगी ।"

रूआंसी आवाज़ में... "पता नहीं क्या होगा, ख़ैर जो होगा , देखा जाएगा ।"

क्यों आक्षी ऐसा क्यों कह रही हो ," क्या तुम किसी को चाहती हो ?? अगर ऐसा है तो बोल दो मां- पापा को ।"

"हां एक मुसाफिर भा गया है , मगर ना जाने वो मुसाफ़िर कहां खोया है , ढुंढ रही हूं , कहीं मिले तो मां- पापा से कहूं ।"

"आक्षी वो मुसाफ़िर तुम्हारे दिल में है , अपने दिल में झांक कर देखो वहीं मिलेगा , बस तुम्हारी सहमति का इंतजार कर रहा था ।"

"मैं सहमत हूं ।"

ख़ुशी से , "सच , सच आक्षी , क्या तुम मेरे जीवन के दिए में रोशनी करने के लिए बाती बनोगी ?? सच बताऊं तो जब मैंने तुम्हें बस में पहली बार देखा था , मैं तब से ही इस मुसाफ़िर पे दिल हार बैठा था ।"

अगले ही दिन राहुल अपने माता-पिता को लेकर आक्षी के घर पहुंच जाता है शादी की बात करने के लिए । दोनों के माता-पिता राजी हो गए इस शादी के लिए ।दोनों मुसाफ़िर एक नए सफर पर निकल पड़े , थामे एक - दूजे का साथ , किया वादा ज़िन्दगी भर निभाने का साथ!



Rate this content
Log in

More hindi story from Prem Bajaj

Similar hindi story from Romance