manju gupta

Inspirational


3  

manju gupta

Inspirational


देश में दीयों से दिवाली

देश में दीयों से दिवाली

4 mins 124 4 mins 124

लॉकडाउन पर देश में दीयों से दीवाली 

आज तारीख 5 अप्रैल 2020 और दिन रविवार ।

दीया कहीं भी जले वह चारों दिशाओं को प्रकाशित करता है । अँधेरा मन के अंदर ,बाहर का छांटता है। दीया तो सच का प्रतीक है । हमारे प्रत्यक्ष प्रमाण है । हम आज देश के साथ


ज्योति पर्व की दीवाली मना रहे हैं ।

 भारतीय संस्कृति में दीप प्रज्ज्वलन का बहुत महत्त्व है । दीया आशा , उम्मीद , सस्वती , लक्ष्मी पूजन , शुभ कार्य का प्रतीक है । सुबह - शाम हर हिन्दू घर में प्रभु के सामने दीया जलाते हैं । मैं भी अपने हमसफ़र पति आ स्वतंत्र जी के संग दीपक जलाऊँगी।


तमसो मा ज्योर्तिगमय भारतीयता का प्रतीक है । अर्थात हम अँधेरे से प्रकाश की ओर जाएँ । 

दीप से दीप से जलाते चलो । यानी प्रकाश हर दिल दुनिया को प्रकशित करता है ।

मेरे जमाने में ऋषिकेश , उत्तराखण्ड में बिजली बहुत देर से आयी थी । शाम को दीया , लालटेन हम अपनी माँ के साथ जला के हर कमरे को रोशन करते थे । उजास के लिए , रोशनी के लिए । हमारी शिक्षा दसवीं तक लालटेन की रोशनी में हुयी है ।

उस जमाने में तो लालटेन की रोशनी हर धर्म संप्रदाय के लिये थी । किसी भी नस्ल , लिंग , वर्ण , जाति , संप्रदाय का कोई भेदभाव नहीं था । हर भारतवासी उस जमाने में दीया जलाता था । अभी भारत के गाँवों में बिजली नहीं आयी है । वहाँ भी दीया जलता है ।

हमारे देश के प्रधानमंत्री आ नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना जैसी महामारी से बचाने के लिए आज की ऐतिहासिक राष्ट्रीय तारीख 5 अप्रैल 2020 दिन रविवार को संपूर्ण भारत में  रात के 9 बजे 9 मिनट तक 

दीया जलाने का , मोमबत्ती , टार्च , मोबाइल की फलेश लाइट आदि से प्रकाश करने को आह्वान किया है और घर की बिजली नहीं उतने वक्त तक जलानी है ।दीप जलेगा कोरोना का अंधकार दूर होगा । यही मा मोदी जी के संग मेरा भी लक्ष्य है कि मानव के रोशनी में सब विकार जल जाएँ । सारे महजब , धर्म , संप्रदाय , नस्ल ,

लिंग वर्ण मन का अँधेरा दूर कर सब एक हो जाएँ।  

क्योंकि प्रकाश सकारात्मक ऊर्जा , विधायक भाव , शक्ति , उत्साह , मनोबल , आत्मविश्वास बढ़ाने का प्रतीक है । निराशा का अँधेरा मिटेगा । दिवाली का यह दीया हमें घर में बॉलकोनी में , आँगन में छत पर पारिवारिक दूरी बना कर जलाना है । जिससे 

कोरोना का संकट मलिन होगा ।

पूरे भारत में आज चैत्र कृष्ण पक्ष की इस अमावस्या को दीपकों से पूरा भारत दिवाली सा जगमग करेगा ।

इधर बिजली विभाग भी रात के 8 बजे से बिजली की लोड शैंडिग करेगा ।आज 9 बजे की दीवाली लक्ष्मण रखवाली दीवाली है । देश हमारा रोशन होगा ।

हम सब मिलके पूरा भारत की सामूहिक शक्ति बनके दीपक जलाएगें । यही हमारा राष्ट्रीय धर्म है ।दीया प्रतीक है उन वफादार डॉक्टर , उन संगठनों का , उन यौद्धाओं को उन साकारात्मक संकल्प सोच के मानव जाति को जो अपनी जान हथेली पर रखे मानव के संक्रमण होने से बचा रहे हैं । मेरे संग पूरे भारत के नागरिक उन फरिश्तों का कृतज्ञ है । 


भारतीय अध्यात्म में 9 अंक संपूर्णता , शक्ति ,शुभता , निस्वार्थता , साहस का प्रतीक है । मंगल , शुभ का प्रतीक है । इस 9 का स्वामी मंगल है ।इसलिए रविवार तारीख 5 को चुना । रवि का अर्थ भी सूरज , दिनमान होता है । सूरज तो साक्षात ईश्वर है । प्रकाश का , सत्य का । सूरज का काम काले स्याहा अँधेरे को भगाना है । 

लाकडाउन समाप्त होने के भी 9 दिन बचे हैं । यानी 14 अप्रैल 2020 की तिथि को समापन हो जाएगा ।

दीया की रोशनी हमारे मन में भरेगी साहस , शक्ति , शांति । हमारे मस्तिष्क के न्यूरॉन्स को क्रियाशील करेगी । आध्यात्म की शक्ति से भारत की जन्मपत्री के लग्न में बैठा राहू दूर होगा । जिससे कोरोना का आतंक खत्म होगा । मंगल देश में आयी हताशा , निराशा ,तनाव , वायरस की चुनोतियों की जंग को दूर करेगी ।

भारत विश्व में सुदृढ़ता के साथ फिर से नेतृत्व करेगा । 

यही कोरोना की महामारी का अँधेरा सामूहिक दीपक जलाने से सामूहिक प्रकाश की तरंगें पूरे भारत में ऊर्जा की प्रकाशित तरंग तंरिगत होगी । परिवेश की नकारात्मक दोषों को दूर करेगी । 

हमारे सिक्खों के गुरु , महान ज्ञानी गुरुनानक जी ब्रह्मांड की आरती गायी । जिसमें सूरज चाँद तारे की ज्योत है और आसमान की थाली है । जो प्रतीक है प्रकृति ब्रह्मांड को बचाना है । विकारों को दूर करके मानवता को बचाना है । आओ हम सब दीप जलाने के महायज्ञ में शामिल होकर कोरोना की पूर्ण आहुति दें । राक्षस बना रक्तबीज सा वायरस भारत की संगठन , एकता की दुर्गीय , दैवीय शक्ति से स्वाहा हो जाएगा ।

अंत में कोराना के प्रति जागरूकता को  मुक्तक में मैं कहती हूँ 


दीया को जलाना है , 

 जगत तम मिटाना है , 

न रोये फिर मानवता ,

कोरोना भगाना है ।



Rate this content
Log in

More hindi story from manju gupta

Similar hindi story from Inspirational