Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

manju gupta

Drama


3  

manju gupta

Drama


17वां दिन

17वां दिन

4 mins 196 4 mins 196

आज जुमा का दिन यानी शुक्रवार है तो भी कुछ मस्जिद में मुस्लिम समुदाय ने सामूहिक रूप से नमाज पढ़ी है। ये समाज के देश के दुश्मन हैं। कोरोना को फैलाने में लगे हैं। यह आसुरी वृत्ति को दर्शाता है। जबकि धर्म गुरुओं ने नमाज घर में पढ़ने की हिदायत दी है। 

इक्कीसवीं सदी में कोरोना महामारी भारत और  विश्व के लिए कोरोना काल का संकट को ले  कर आया है। इस रोग का जिम्मेदार मानव की महत्त्वकांक्षा ही हैं। चीन से आया कोरोना के पीछे चीन की चाल ही है। विश्व में कोरोना को फैलाकर विश्व में चीन सुपर पावर बनने की शक्ति हासिल करना चाहता है। उसकी अंहकारी , कपटी, धूर्त सोच को ईश्वर भारत को कृष्ण , राम की कोई मारन शक्ति दो। जिससे चीन की बुरी नजर को नोंच सके। पूरी दुनिया वायरस से लड़ रही है। 

चीन ने अपना व्यापार के द्वार दुनिया के लिए खोल दिया। अब चीन दुनिया की कम्पनी सस्ती दामों को खरीद रहा है। चीन ने कोरोना का ' बायो वार ' जीत लिया है।

विश्व में आयी आर्थिक मंदी से चीन अपनी अर्थ व्यवस्था को बढ़ाने में लगा है। अमेरिका , स्पेन , फ्रांस आदि विकसित देश घुटने टेक रहा है। 180 देश वायरस से लड़ रहे हैं। चीन ने जनवरी से ही दुनिया भर के बाजार से ऍन 95 मास्क , आईसीयू उपकरण आदि खरीदने शुरू कर दिया था। अब चीन विश्व की साँसें छीन के उनकी दौलत को लूट रहा है। चीन का कोरोना संकट खत्म होगया। वहीं समान जो अन्य देशों से चीन ने वुहान के पीड़ितों के लिए दान में या खरीद के जमा किया था। अब वही मास्क ,वेन्टीलेटर्स , सामान दूने रेट में उन देशों को बेच रहा है। चीन में कोरोना खत्म हो गया। चीन के बाजार व्यापार , उत्पादन से गुलजार हो रहे हैं। विश्व के बाजार कोरोना से बंद हैं।

भारत में अभी तक 6412 केस कोरोना के हैं। 199 लोग कोरोना से जान धो बैठे हैं। भारत ने दुनिया के देश से सीख के लाकडाउन लागू किया था। जिससे भारत कोरोना से मरने वालों का ग्राफ अन्य देशों के ग्राफ से कम है।

अभी हम कोरोना के किस स्टेज पर है। अभी देश को नहीं मालूम है।

डाक्टर , नर्से हमारी सेवा कर रहे हैं। हमें इन यौद्धाओं की पीठ थाथपानी चाहिए। इन का शुक्रिया करना चाहिए । भगवान बनके हमारे जीवन को बचा रहे । सारे डाक्टर मेडिकल स्टाफ भी कोरोना के मरीजों की सेवा में जुटा हैं । जिनमें से कुछ डॉक्टरों कोरोना से पीड़ित हुए हैं। कोरोना को हराने के संकल्प भारत सरकार के साथ हर नागरिक ने लिया है।

लाकडाउन में कोरोना का और न ही पुलिस का मुट्ठी भर जमातियों के लोगों को डर नहीं रहा है। मस्जिदों में ज़िद्दी जेहादी समूहिक रूप से नामज पढ़ रहे हैं।जमातियों ने देश को कोरोना फैलाने के जख्म दिए हैं।अमानवीयता का घिनोना खेल खेला है। यह जख्म भरे न भरे जाएंगे। 

लॉक डाउन के ये विलेन पुलिसकर्मियों से उलझते हैं। 

लाकडाउन में दर्जनों लोग पुलिस की चेतवानी को दर किनारे करके दिल्ली की जामा मस्जिद के मैदानों पर क्रिकेट खेल रहे हैं। कोरोनो को फैलानेवासले जमातियों के मरीज पूरे देश में मिल रहे हैं। सब्जी खरीदने के बहाने लोग भीड़ में इकट्ठे कर रहे हैं। लाकडाउन की धज्जियां उड़ा रहे हैं। सोशल डिस्टसिंग को नहीं मान रहे हैं।

 जबकि इस लॉक डाउन तोड़ने के विरुद्ध पुलिस कार्रवाई कर रही है। शहर अब बन रहे हैं हॉटस्पॉट। 

सरकार की चिंता बढ़ा रहे हैं। ड्रोन से सरकार भीड़ इकट्ठी नहीं होने की अपील भी कर रही है।

कोरोना के युद्ध में डॉक्टर , मेडिकल स्टाफ पुलिस सेनापति बनके लड़ाई कर रहे है।

जमात के तब्लीगी जैसे लोगों ने देश में बीमारी फैलाई है। इनका लक्ष्य था डाक्टरों के साथ अश्लील हरकतों से डॉक्टरों की कोरोना युद्ध की विजय  को चारो खाना चित करना है जिससे डाक्टर हिम्मत हार जाएँ और अन्य मरीजों का इलाज ठीक से नहीं कर सकें। 

इसलिए ये सामाजिक दुश्मन  अस्पतालों की रेलिंग , फर्श पर थूक फेक रहे हैं। स्वच्छता , स्वास्थ्य की दृष्टि से थूक फेंकना पाप , अपराध है। ऐसे में जब कोरोना संक्रमित बीमारी है। तब संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ती है। ये तो सारे तब्लीगी तो पढ़े लिखे , बालिग हैं। इनकी गलती की सजा देश भुगत रहा है।

बचपन में मेरी हिन्दू सहेली ने बताया था कि अधिकतर कुछ मुसलमान के घर में हिन्दू लोगों की मेहमान नवाजी करते हैं। तो वे उन व्यंजनों में अपना थूक मिला के खिलाते हैं। तब मैंने विश्वास नहीं किया था। आज यह थूक फेंकने का विश्वास पुख्ता हो रहा है। 

 यही जिद्दी जमातियों ने देश के कई राज्यों में बरेली , केरल आदि में पुलिस, स्वास्थ्यकर्मियों 

पर पथराव किया था। जब डाक्टर , आशाकर्मी उनको समझाने के लिए गए थे। पुलिस अधिकारी भी जख्मी हुए थे। 

 ऐसे अपराधी तब्लीगी जमात के इस निंदनीय कार्य के लिए सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए। 

कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड नहीं हुआ है। लाकडाउन खत्म होने पर 4 दिन बचे हैं। 14 अप्रैल के आने पर दुबारा लाकडाउन की केंद्र सरकार जनता को बताएगी।


Rate this content
Log in

More hindi story from manju gupta

Similar hindi story from Drama